पीएमसीएच इमरजेंसी के टॉप फ्लोर में लगी आग, सांसत में फंसी मरीजों की जान

Malay, Last updated: Wed, 22nd Apr 2020, 9:05 AM IST
कोरोना के खौफ के बीच मंगलवार को प्रदेश के सबसे बड़े अस्पताल पटना मेडिकल कॉलेज में आग ने तांडव मचा दिया। मरीजों से भरी इमरजेंसी के ऊपरी मंजिल पर आग लगते ही अफरातफरी मच गई। मरीजों के साथ सुरक्षा...
पटना मेडिकल कॉलेज की इमरजेंसी की ऊपरी मंजिल में लगी आग से मच गई अफरातफरी

कोरोना के खौफ के बीच मंगलवार को प्रदेश के सबसे बड़े अस्पताल पटना मेडिकल कॉलेज में आग ने तांडव मचा दिया। मरीजों से भरी इमरजेंसी के ऊपरी मंजिल पर आग लगते ही अफरातफरी मच गई। मरीजों के साथ सुरक्षा कर्मियों और तीमारदारों में भगदड़ मच गई। आग की लपटें इतनी तेज थीं कि वह तेजी से बड़ी अनहोनी की तरफ बढ़ रही थीं। तीन मंजिली इमारात में हर फ्लोर पर चींख-पुकार के साथ लोग भागने लगे। पुलिस प्रशासन की चौकसी से थोड़ी ही देर में दमकल की गाड़ी मौके पर पहुंच गई और आग पर काबू पा लिया गया। आग थोड़ी देर और नहीं बुझी होती तो गंभीर हालत में भर्ती मरीजों की जान जा सकती थी।

काला धुआं देख उड़ गए लोगों के होश 
पटना मेडिकल कॉलेज में दोपहर के समय सब कुछ सामान्य था। हर दिन की तरह मंगलवार को भी पुरानी इमरजेंसी चल रही थी। पुराने भवन में चल रही इमरजेंसी के ऊपर भी डायलसिस के साथ अन्य जांच व उपचार का काम हो रहा था। एक्स-रे, एमआरआई के साथ अन्य जांच चल रही थी। हर दिन की तरह मंगलवार को भी मरीजों की संख्या कम नहीं थी। इस बीच भवन की ऊपरी मंजिल से अचानक काला धुआं दिखने लगा। जब तक लोग कुछ समझ पाते, धुएं का रंग बदल गया और आग की लपटें भी उठने लगीं। देखते ही देखते मरीजों की चींख-पुकार मच गई। भगदड़ को देख डॉक्टर से लेकर नर्स और अन्य कर्मचारी भागकर बाहर आ गए। मरीजों को आनन-फानन में बाहर निकालने का काम शुरू कर दिया गया। बताया जा रहा है कि घटना के बाद अधिकतर मरीजों को बाहर कर दिया गया था, लेकिन जो मरीज काफी गंभीर थे, उन्हें बाहर नहीं किया गया। इस दौरान इमरजेंसी में सोशल डिस्र्टेंंसग भी टूट गई और किसी तरह से लोग जान बचाने में जुट गए।

अस्पताल प्रशासन की मनमानी उजागर 
आग की घटना की सूचना मिलते ही पुलिस के साथ फायर ब्रिगेड की गाड़ियां भी मौके पर पहुंच गईं। पूरी टीम आग बुझाने में लग गई। घंटों मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया जा सका। अस्पताल प्रशासन का कहना है कि आग का कारण बिजली का शार्ट सर्किट है। सूत्रों की मानें तो इस घटना का बड़ा कारण पीएमसीएच प्रशासन ही हुआ है। बताया जा रहा है कि इमरजेंसी की छत पर प्लास्टिक का कबाड़ इकट्ठा किया गया है। इसी में आग लगी है, जिसके बाद सैकड़ों लोगों की जान पर आफत आ गई। पीएमसीएच प्रशासन इस मामले में कुछ भी साफ बताने को तैयार नहीं है।  

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें