लॉकडाउन: जम्मूतवी में फंसे बिहार के सैकड़ों श्रद्धालु घर आने को बेचैन

Malay, Last updated: Sat, 28th Mar 2020, 10:40 AM IST
लॉकडाउन के कारण जम्मूतवी में फंसे बिहार के सैकड़ों  श्रद्धालुओं में खगौल के अर्जुन गुप्ता का परिवार भी शामिल है। अर्जुन गुप्ता की 60 वर्षीया पत्नी हाइपरटेंशन और मधुमेह की मरीज हैं। इस वजह से इनको...
file photo

लॉकडाउन के कारण जम्मूतवी में फंसे बिहार के सैकड़ों  श्रद्धालुओं में खगौल के अर्जुन गुप्ता का परिवार भी शामिल है। अर्जुन गुप्ता की 60 वर्षीया पत्नी हाइपरटेंशन और मधुमेह की मरीज हैं। इस वजह से इनको प्रतिदिन दवाइयां लेनी पड़ती हैं। लॉक डाउन की वजह से उनको वहां पर जरूरी दवाइयां भी नहीं मिल रही है। इनके साथ तीन साल का बमबम का बेटा लड्डू भी है। इस के लिए दूध भी नहीं मिल पाता है।

स्टेशन के पास शिवधाम धर्मशाला में रुके हैं 
अर्जुन गुप्ता और उनका परिवार स्टेशन के पास ही अपने पैसे से शिवधाम धर्मशाला के एक कमरे में किसी तरह रुके हैं। खाना सिख समुदाय के लोगों से मिलता है, पर पर्याप्त नहीं। लॉक डाउन की वजह से बाजार नहीं लगने से दवा और दूध आदि खाने का सामान भीं नहीं मिल पा रहा। धीरे-धीरे पैसे की कमी भी हो रही है। इन सभी कारणों से कई तरह की परेशानियों के साथ-साथ घर-परिवार र्की ंचता भी सता रही है। अर्जुन और इनका परिवार फोन पर्र ंचता जताते हुए सरकार से जल्द से जल्द रेस्क्यू कर घर पहुंचाने की गुहार लगा रहे हैं।

14 मार्च को वैष्णो देवी की यात्रा पर गए थे
अर्जुन का कहना है कि 14 मार्च को वैष्णो देवी की यात्रा पर गए थे। 22 मार्च को ही इनको वापस लौटना था। पर उसी दिन जनता कफ्र्यू एवं उसके बाद लॉक डाउन की घोषणा हो गई। इस के बाद खासकर बिहार के काफी श्रद्धालु जम्मू में फंसे हुए हैं। अर्जुन गुप्ता ने अपने परिवार के साथ-साथ जम्मू में फंसे बिहार के श्रद्धालुओं की घर वापसी के लिए राज्य के मुख्यमंत्री से गुहार लगा रहे हैं। उहोंने अपना मोबाईल नम्बर 8082526927 जारी भी किया है। 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें