पटना में जदयू का शंखनाद: जदयू महासम्मेलन में गांधी मैदान पहुंचा समर्थकों का रेला

Malay, Last updated: 02/03/2020 10:48 AM IST
जनता दल यूनाइटेड के कार्यकर्ता महासम्मेलन से बिहार में चुनावी शंख भी बज गया। जैसे ही नीतीश कुमार मंच पर पहुंचे समर्थकों ने 2020, फिर से नीतीश के नारे लगाने शुरू कर दिए। नीतीश कुमार ने भी कहा कि इस...
गांधी मैदान जाने के लिए पटना की सड़कों पर निकला जदयू समर्थकों का हुजूम। वहां पहुंचकर लोगों ने लगाए नीतीश के नारे।

जनता दल यूनाइटेड के कार्यकर्ता महासम्मेलन से बिहार में चुनावी शंख भी बज गया। जैसे ही नीतीश कुमार मंच पर पहुंचे समर्थकों ने 2020, फिर से नीतीश के नारे लगाने शुरू कर दिए। नीतीश कुमार ने भी कहा कि इस बार हम 200 सीटों पर जीतेंगे। गौरतलब है कि शनिवार से ही समर्थक पटना पहुंचना शुरू हो गए थे। रविवार को सुबह 10 बजते-बजते गांधी मैदान समर्थकों से भरने लगा। हर चौराहे पर पुलिस तैनात थी।  गांधी मैदान केे हर गेट पर सघन जांच की जा रही थी। मैदान में दो मंच बनाए गए थे। मुख्य मंच पर 450 लोगों के बैठने की व्यवस्था थी।  

मुख्यमंत्री का मना जन्मदिन
समर्थकों के लिए महासम्मेलन का दिन और खास हो गया, क्योंकि 1 मार्च को ही मुख्यमंत्री का जन्मदिन भी  होता है। कार्यकर्ता इसे यादगार बनाने के लिए मंच पर केक लेकर पहुंच गए। नीतीश कुमार ने मंच पर जैसे ही केक काटा, पूरा गांधी मैदान हैप्पी बर्थ डे टू यू से गूंज उठा।

एनपीआर पर किसी को कोई भ्रम न रहे
नीतीश कुमार ने कहा कि एनपीआर और  एनआरसी  को लेकर भ्रम में कोई नहीं रहे। हमने 25 फरवरी को ही भारत सरकार को लिखा है कि एनपीआर 2010 के पैटर्न पर होना चाहिए। एनआरसी पर तो प्रधानमंत्री खुद कह चुके हैं कि इसे लागू नहीं किया जाना है। विधानसभा से हम लोगों ने इन दोनों मामलों पर प्रस्ताव भी पारित कर दिया है। इसके अलावा भी उन्होंने कई मुद्दों पर अपनी बात रखी।

पुलिस ने अपनों से मिलवाया
गांधी मैदान में प्रवेश और निकास द्वार के सामने कंट्रोल रूम बनाया गया था। यहां भीड़ में गुम हुए लोंगों को अपनों से मिलाया जा रहा था। जेपी गोलंबर कंट्रोल रूम में दोपहर ढाई बजे तक 85 लोगों को मिलाया जा चुका था। दूसरे केंद्रों पर भी 100 से अधिक गुम हुए लोगों को अपनों से मिलवाया गया।

नृत्य ने खींचा सबका ध्यान
दोपहर एक बजे के बाद जब कार्यकर्ता जाने लगे तो ठीक उसी वक्त कटिहार से आए कार्यकर्ताओं ने कठघोरवा नृत्य पेश करना शुरू कर दिया। इसे देखने के लिए भीड़ जमा हो गई। बिहार की पुरानी नृत्यकला को देख लोग मंत्रमुग्ध हो उठे। 

एक दिन का बाजार भी सजा
समर्थकों की भीड़ देख गांधी मैदान के पास कपड़े, फाइल, खिलौने, खानपान के ठेलों का अस्थायी बाजार लग गया। गांधी मैदान से लेकर फ्रेजर रोड, एक्जीबिशन रोड तक 100 रुपए में तीन शर्ट, दो टी-शर्ट की जमकर खरीदारी हुई। 

हम बात नहीं बनाते हैं, काम पर विश्वास करते हैं। हमने न्याय के साथ विकास किया है। कोई ऐसा तबका नहीं, जिसके लिए हम लोगों ने काम नहीं किया है। इस बार 200 से अधिक सीट जीतेंगे। 
- नीतीश कुमार, मुख्यमंत्री 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें