एनएमसीएच: मोहल्ले के रहने वाले 3 सहित 56 मरीजों का सैंपल लिया

Malay, Last updated: Sat, 28th Mar 2020, 10:55 AM IST
नालंदा मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल के नोवल कोरोना सेंटर में पांच मरीजों का इलाज चल रहा है। सेंटर में कुल 56 नए संदिग्ध मरीजों का सैम्पल जांच के लिए आरएमआरआई भेजा गया है। नये मरीजों में अशोक राजपथ,...
corona virus photo imcr

नालंदा मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल के नोवल कोरोना सेंटर में पांच मरीजों का इलाज चल रहा है। सेंटर में कुल 56 नए संदिग्ध मरीजों का सैम्पल जांच के लिए आरएमआरआई भेजा गया है। नये मरीजों में अशोक राजपथ, पीएमसीएच के पास स्थित मोहल्ले के रहनेवाले तीन मरीज भी शामिल हैं। जो आस्टे्रलिया से आए थे। वहीं पत्रकार नगर थाना क्षेत्र  के योगीपुर का रहनेवाला एक युवक भी शामिल हैं। जो दुबई से आया है। 

35 कर्मियों का लिया गया सैंपल
बाइपास स्थित शरनम अस्पताल के दो कर्मियों का जांच रिपोर्ट पॉजीटिव  पाए जाने के बाद अस्पताल के सभी 35 कर्मियों का सैम्पल माइक्रोबायोलॉजी विभाग के द्वारा लेकर आरएमआरआई भेजा गया है। डॉक्टरों के अनुसार इसमें से अधिकांश में हाईरिस्क की संभावना है। एनएमसीएच के आइसोलेशन वार्ड के नोडल पदाधिकारी डॉ. अजय कुमार सिन्हा व अस्पताल के अधीक्षक डॉ. गोपाल कृष्ण  ने बताया कि संदिग्ध मरीजों की संख्या में लगातार वृद्धि हो  रही है। बड़ी संख्या में लोग अपनी जांच कराने अस्पताल पहुंच रहे हैं।  जिस कारण अस्पताल के नेत्र रोग व चर्म रोग विभाग के वार्डों में भी मरीजों को भर्ती किया जा रहा है। 

147 मरीज भर्ती 
गुरुवार को अपडेट डाटा के अनुसार अबतक 147 मरीज भर्ती हो चुके हैं। फिलहाल एनएमसीएच में 60 मरीजों का इलाज चल रहा है। जिन मरीजों की जांच रिपोर्ट निगेटिव आ रही है। उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी जा रही है।

डॉ. निर्मल बने अधीक्षक
एनएमसीएच में सर्जरी विभाग के अध्यक्ष डॉ. निर्मल कुमार सिन्हा को अस्पताल का नया अधीक्षक बनाया गया है। प्राचार्य डॉ. विजय कुमार गुप्ता ने बताया कि एनएमसीएच को कोरोना अस्पताल घोषित करने के बाद विभाग ने काम के बढ़ते दबाव को देखते हुए अधीक्षक की प्रतिनियुक्ति की है। प्रभारी अधीक्षक डॉ. गोपाल कृष्ण अपने मूल पद उपाधीक्षक पर बने रहेंगे।

सर्जिकल वार्ड में इलाज के दौरान मरे संदिग्ध मरीज का शव परिजनों को सौंप दिया गया
एनएमसीएच के सर्जिकल वार्ड में इलाज के दौरान मरे संदिग्ध मरीज का शव परिजनों को सौंप दिया गया। जांच के बाद डॉक्टरों ने उसे एमडीआर टीबी का मरीज बताया था। कोरोना के संदेह में उसकी जांच करायी गयी थी। मृतक की पत्नी अंजुम आरा ने बताया कि उसका पति हैदर अली (51 वर्ष) टीबी का मरीज था। वह सिवान जिले के अजगराबाद इलाके का रहनेवाला था। अचानक तबियत बिगड़ने पर उसे एनएमसीएच के सर्जिकल आईसीयू में भर्ती कराया गया था। 

आरएमआरआई  आए 38 सैंपल
शुक्रवार को आरएमआरआई में कोरोना के सैंपल की जांच नहीं हुई। हालांकि सैंपल एकत्र किए गए। शुक्रवार को विभिन्न अस्पतालों से 38 सैंपल आए। जिनकी जांच शनिवार को की जाएगी। शुक्रवार को संस्थान के बायरोलॉजी लैब को सैनिटाइज किया गया। जिससे कि संक्रमण से बचाव हो सके। 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें