दारोगा भर्ती परीक्षा: बाहर आया पर्चा, उत्तर वायरल

Malay, Last updated: 23/12/2019 12:07 AM IST
दारोगा, सहायक जेल अधीक्षक और सार्जेंट की संयुक्त परीक्षा पर अभ्यर्थियों ने सवाल खड़े करने शुरू कर दिए हैं। अभ्यर्थियों का आरोप है कि परीक्षा में धांधली हुई है। कुछ लोगों को पहले ही पता चल गया था कि...
दारोगा भर्ती परीक्षा देकर केंद्र से निकलते अभ्यर्थी।

दारोगा, सहायक जेल अधीक्षक और सार्जेंट की संयुक्त परीक्षा पर अभ्यर्थियों ने सवाल खड़े करने शुरू कर दिए हैं। अभ्यर्थियों का आरोप है कि परीक्षा में धांधली हुई है। कुछ लोगों को पहले ही पता चल गया था कि कौन से प्रश्न आने वाले हैं। तभी तो उत्तर वायरल किए गए, जिसमें कुछ मिल भी रहे हैं। दारोगा भर्ती परीक्षा में प्रश्न पत्र और ओएमआर शीट दोनों जमा करवा ली गईं थी, तब पहली पाली का हू-ब-हू प्रश्नपत्र लोगों के मोबाइल पर कहां से आ गया। हालांकि प्रश्नपत्र पहली पाली खत्म होने के बाद वायरल हुआ है। 

आरा और नवादा में अभ्यर्थियों ने पर्चा लीक का आरोप लगाकर परीक्षा का बहिष्कार भी किया है। आरा में तो कॉपी तक फाड़ दी गईं। रविवार शाम को पटना में भी कुछ छात्र संगठनों ने पर्चा लीक का आरोप लगाकर विरोध प्रदर्शन किया। वहीं बिहार पुलिस अवर सेवा आयोग का दावा है कि कहीं भी किसी तरह की कोई गड़बड़ी नहीं हुई है। आरा और नवादा में हुई घटना की जांच करने आयोग की टीम जाएगी। दोनों सेंटरों पर पहुंचकर पदाधिकारी पूरे मामले की जांच करेंगे। 

बिहार में 495 केंद्रों पर परीक्षा आयोजित की गई। आयोग ने तीनों संयुक्त परीक्षाओं के लिए 5.86 लाख अभ्यर्थियों के प्रवेश पत्र जारी किए थे। यातायात पुलिस के 68 सिपाही और पुलिस लाइन के एक हजार सिपाहियों ने परीक्षा में भाग लिया। बिहार मिलिटरी पुलिस के भी लगभग एक हजार सिपाहियों ने दारोगा बनने के लिए परीक्षा दी।

सुबह से ही वायरल हो गए थे उत्तर
रविवार को सुबह से ही दारोगा भर्ती आंसर-की नाम से चार पर्चे वायरल हुए। एक पर्चे पर दारोगा परीक्षा, पहली शिफ्ट 22-12-2019 लिखकर 95 उत्तर दिए हुए थे। बाकी पर्चों पर भी नंबर और उत्तर लिखे हुए थे। सभी पर उत्तर हाथ से लिखकर वायरल किए गए थे। जब पहली पाली की परीक्षा देकर अभ्यर्थी लौटे तो उनका कहना था कि 5-10 प्रतिशत ही उत्तर मिल रहे हैं। दोपहर में एक और हाथ से लिखी हुई आंसर-की जारी हुई। दूसरी पाली की परीक्षा देकर निकले छात्रों का आरोप है कि इस पर्चे के 50 प्रतिशत उत्तर मिलान कर रहे हैं। 

अभ्यर्थियों के आरोप
लखीसराय के आर लाल कॉलेज में परीक्षा देने वाली एक महिला अभ्यर्थी ने बताया कि उसकी परीक्षा पहली पाली में थी। जब वह परीक्षा देकर आई तो उसके मोबाइल पर उत्तर और प्रश्न पत्र आए हुए थे। सभी उत्तर सही थे। प्रश्न पत्र भी वही था, जो पहली पाली में पूछा गया था। 

जहानाबाद में परीक्षा देने वाले एक अभ्यर्थी ने बताया कि उसकी परीक्षा दूसरी पाली में थी। परीक्षा देकर जब वो आया तो उसके मोबाइल पर वायरल उत्तर आया हुआ था। उसने बताया कि वायरल उत्तर में 50 प्रतिशत उत्तर परीक्षा में पूछे गए प्रश्न से मेल खा रहे थे। 

पर्चा आउट है कहकर बहिष्कार
आयोग के मुताबिक आरा के श्री जैन बाला विश्राम बालिका विद्यालय में पहली पाली की परीक्षा शुरू होने वाली थी। प्रश्न—पत्र को एक ब्लॉक से दूसरे ब्लॉक ले जाया जा रहा था कि कुछ अभ्यर्थियों ने हंगामा शुरू कर दिया। उनका आरोप था कि प्रश्न पत्र लीक हो गया है। बाद में कुछ ने कॉपी भी फाड़कर परीक्षा का बहिष्कार किया। समझाने पर 117 अभ्यर्थी वापस परीक्षा देने आए। वहीं नवादा के डीपीसी स्कूल में सुबह प्रश्न पत्र खोला जा रहा था, तभी अभ्यर्थियों ने यह कहते हुए हंगामा कर दिया कि प्रश्न—पत्र लीक हो गया है। अभ्यर्थी परीक्षा बहिष्कार कर धरने पर बैठ गए। पुलिस को बुलाना पड़ा, तब सभी बाहर निकले। 

किसी शिकायत के बिना प्रारंभिक परीक्षा पूरी हुई है। दो केंद्रों पर पर्चा लीक की अफवाह उड़ाई गई, जिससे परीक्षा बाधित हुई। आयोग जांच करेगा कि पहली पाली में हुई परीक्षा वैध है या नहीं।
-अशोक प्रसाद, ओएसडी, बिहार पुलिस अवर सेवा आयोग

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें