पुटुस का कातिल पकड़ा गया, साजिशकर्ता में था अनंत सिंह का नाम

Malay, Last updated: Sun, 30th Jun 2019, 12:41 AM IST
आज भी पटना जिले में पुटुस हत्याकांड का नाम आते ही रोंगटे खड़े हो जाते हैं। छेड़खानी का यह मामला इसलिए बड़ा हो गया था कि जिस तरह पुटुस को मारा गया, उसे देखकर पुलिस भी सन्न रह गई थी। पहले जीते जी पुटुस के...
पुटुस को मारने का आरोप मनीष सिंह पर है। एसटीएफ ने शनिवार को मनीष को गिरफ्तार किया।

आज भी पटना जिले में पुटुस हत्याकांड का नाम आते ही रोंगटे खड़े हो जाते हैं। छेड़खानी का यह मामला इसलिए बड़ा हो गया था कि जिस तरह पुटुस को मारा गया, उसे देखकर पुलिस भी सन्न रह गई थी। पहले जीते जी पुटुस के नाखून निकाले गए, फिर उसके शरीर में कीलें ठोंकी गईं, इसके बाद हत्यारोंं ने उसको मारकर खेत में फेंक दिया था। जब पुलिस हत्यारों को  पकड़ने पहुंची तो मामला अनंत सिंह से जुड़ गया। आरोप लगा कि हत्यारे अनंत सिंह के करीबी हैं। पुलिस ने अनंत सिंह को भी रिमांड में लेकर पूछताछ की। हत्यारोपी मनीष फरार हो गया। पुलिस ने 50 हजार रुपए का इनाम घोषित कर दिया। उसके बावजूद वह नहीं पकड़ में आया। आखिरकार चार साल बाद शनिवार को मनीष सिंह पकड़ा ही गया।

जून 2015 में हुए पुटुस हत्याकांड के मुख्य आरोपी और बाहुबली अनंत सिंह के करीबी मनीष सिंह को गिरफ्तार करने में बिहार पुलिस को चार साल लग गए। इस बीच पुलिस ताबड़तोड़ कई गिरफ्तारियां की। पूछताछ के लिए अनंत सिंह तक को रिमांड पर लिया, लेकिन मनीष का सुराग कहीं नहीं लगा। बाढ़ थाना ने जनवरी 2019 में मनीष के नाम पर इनाम घोषित करने की अनुशंसा की। बिहार पुलिस ने मनीष को पकड़वाने वाले को 50 हजार रुपए इनाम घोषित कर दिया। इसके बाद लगातार पुलिस के मुखबिर भी मनीष को ढूढ़ रहे थे। बिहार पुलिस मुख्यालय ने मनीष की गिरफ्तारी के लिए कई महीनों से एसटीएफ को लगा रखा था। 

काफी मशक्कत के बाद 15 दिन पहले एसटीएफ को जानकारी मिली कि पटना के बाइपास क्षेत्र में मनीष छुपकर रह रहा है। एसटीएफ मनीष के पीछे साये की तरह लग गई। जब यह पुख्ता हो गया कि पुटुस यादव की हत्या का आरोपी मनीष सिंह यही है, तो शनिवार को एसटीएफ ने उसे धर दबोचा।  मनीष के पुटुस के अलावा हत्या के दो और मामलों में आरोपी है। अब बाढ़ पुलिस मनीष को रिमांड पर लेकर पूछताछ करेगी।

दो अज्ञात के खिलाफ भी दर्ज था मुकदमा
पुटुस के पिता ने इस हत्याकंड में दो अज्ञात पर भी आरोप लगाया था। पुलिस सूत्रों की मानें तो इन दो अज्ञातों की गिरफ्तारी भी नहीं हो पाई है। पुलिस इन अज्ञातों को पिछले चार साल से तलाश रही है, लेकिन ये दोनों पुलिस के हत्थे नहीं चढ़े हैं। बताया जा रहा है कि मनीष गिरफ्तारी के बाद ये दोनों अज्ञात का भी नाम सामने आ सकता है। 

ये हैं हत्या के आरोपी
प्रताप सिंह पुलिस ने इसे आर्म्स एक्ट में जेल भेजा था। बाद में इसे भी पुटुस मामले से जोड़ दिया गया। मौजूदा समय में प्रताप जेल में ही है। 

चंदन सिंह घटना में आरोपित बनाया गया और पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। मौजूदा समय में जमानत पर है। मामला न्यायालय में विचाराधीन है। 

रवि कुमार पुटुस हत्याकांड में आरोपित बनाया गया था और घटना के बाद गिरफ्तार किया गया लेकिन अभी जमानत पर बाहर है। 

कन्हैया पुटुस हत्याकांड में शामिल था और पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। मौजूदा समय में वह जमानत पर है।  

भूषण सिंह घटना के बाद ही पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था, लेकिन अभी वह जमानत पर बाहर है। 

मनीष सिंह घटना में सबसे अधिक चर्चा बाहुबली के करीबी होने के कारण रही। भगोड़ा घोषित होने के बाद एसटीएफ ने 29 जून को गिरफ्तार किया। 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें