शहर में गुरुजी, खाली पड़े हैं गांव के कॉलेज

Malay, Last updated: Wed, 26th Jun 2019, 2:23 AM IST
क्या आपने ऐसा कॉलेज देखा है, जहां बिना शिक्षक के ही पढ़ाई होती हो। विद्यार्थी बिना पढ़े पास हो जाते हों। अगर नहीं देखा है तो एक बार पटना जिले के कस्बों के कॉलेज घूम आइए। स्वीकृत पदों की तुलना में आधे...
मोकामा के आरआरएस कॉलेज में कार्यरत हैं 12 शिक्षक।

क्या आपने ऐसा कॉलेज देखा है, जहां बिना शिक्षक के ही पढ़ाई होती हो। विद्यार्थी बिना पढ़े पास हो जाते हों। अगर नहीं देखा है तो एक बार पटना जिले के कस्बों के कॉलेज घूम आइए। स्वीकृत पदों की तुलना में आधे भी शिक्षक आपको इन कॉलेजों में नहीं मिलेंगे। अब सवाल यह है कि शिक्षक गए कहां? तो जवाब भी जान लीजिए, ये सभी किसी न किसी पैरवी से अपना स्थानांतरण कराकर या प्रतिनियुक्ति पर पटना चले आए हैं। जब पूरे जिले में शिक्षकों का अकाल है, तब पटना शहर के सभी कॉलेज भरे पड़े हैं। 

बाढ़ स्थित एएनएस कॉलेज में लगभग तीन चौथाई शिक्षकों के पद खाली हैं। यहां शिक्षकों के 57 पद हैं, लेकिन आपको जानकर आश्चर्य होगा कि यहां सिर्फ 15 शिक्षक कार्यरत हैं। अंगे्रजी, इतिहास, वनस्पति विज्ञान जैसे विषयों में तो एक भी शिक्षक नहीं है जबकि यहां इंटरमीडिएट से लेकर स्नातकोत्तर तक ही पढ़ाई होती है। यही हाल मोकामा स्थित आरआरएस कॉलेज का है। यहां भी शिक्षकों के 37 पद हैं, लेकिन सिर्फ 12 शिक्षक कार्यरत हैं। अंग्रेजी, इतिहास, वनस्पति विज्ञान में एक भी शिक्षक नहीं है। यह हाल तब है, जब इस कॉलेज में सात हजार से ज्यादा विद्यार्थी पढ़ते हैं। पाटलिपुत्र विश्वविद्यालय के ग्रामीण कॉलेजों में 70 प्रतिशत तक शिक्षकों के पद खाली हैं। इसके उलट शहरी कॉलेजों में 90 से 100 फीसदी शिक्षकों के पद भरे हुए हैं। अरविंद महिला कॉलेज को ही लें। यहां शिक्षक के 37 पद हैं और सभी पद भरे हुए हैं। यहां छह शिक्षक प्रतिनियुक्ति पर हैं। इसी तरह कॉलेज ऑफ कॉमर्स, आर्ट्स एंड साइंस में शिक्षकों के 125 पद हैं और यहां 108 पद भरे हुए हैं। इसी तरह एएन कॉलेज में शिक्षकों के 92 पद हैं और यहां कार्यरत शिक्षक 81 हैं। बीडी कॉलेज में शिक्षकों के स्वीकृत पद 109 हैं और कार्यरत शिक्षक 84 हैं। 

गांव के कॉलेजों की हालत
कॉलेज- स्वीकृत पद- कार्यरत शिक्षक

आआरएस कॉलेज,मोकामा- 37- 12
जगत नारायण कॉलेज, खगौल- 31- 16
मालतीधारी कॉलेज,नौबतपुर- 26- 10
एएनएस कॉलेज, बाढ़- 57- 15
जीजे कॉलेज, बिहट- 42- 13

शहर के कॉलेजों की हालत
कॉलेज- स्वीकृत पद- कार्यरत शिक्षक

अरविंद महिला कॉलेज, पटना- 37- 37
एएन कॉलेज, पटना- 92- 81
कॉलेज ऑफ कॉमर्स, पटना- 125- 108
बीडी कॉलेज, पटना- 109- 84
जेडी वीमेंस कॉलेज, पटना- 56- 38

अंचल में नहीं टिकते गुरुजी
कॉलेज ऑफ कॉमर्स, आट्र्स एंड साइंस पाटलिपुत्र का सबसे अच्छा कॉलेज माना जाता है। यहां कई ऐसे शिक्षक हैं जो कभी अंचल के कॉलेजों में थे। बाद में कॉलेज ऑफ कॉमर्स, आर्ट्स एंड साइंस में तबादला करा लिया। इसी में एक शिक्षक बख्तियारपुर स्थित अंगीभूत कॉलेज में पदस्थापित थे। लेकिन बाद में वो तबादला करा कर कॉलेज ऑफ कॉमर्स आ गए। 

जल्द ही गेस्ट फैकल्टी की बहाली हो जाएगी। तब यह समस्या दूर हो जाएगी। बीपीएससी से पाटलिपुत्र विश्वविद्यालय को भी शिक्षक मिलने चाहिए थे। लेकिन सभी शिक्षक मगध विश्वविद्यालय में चले गए। 
—डॉ. बीके मंगलम, मीडिया प्रभारी, पाटलिपुत्र विवि 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें