पीएमसीएच में दो की संदिग्ध मौत से हड़कंप

Malay, Last updated: Fri, 3rd Apr 2020, 9:20 AM IST
पटना मेडिकल कॉलेज अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में गुरुवार की सुबह दो मरीजों की संदिग्ध हालत में मौत से हड़कंप मच गया। दोनों मरीज बुधवार को पटना मेडिकल कॉलेज आए थे और दोनों की हालत नाजुक बनी हुई थी।...
file photo

पटना मेडिकल कॉलेज अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में गुरुवार की सुबह दो मरीजों की संदिग्ध हालत में मौत से हड़कंप मच गया। दोनों मरीज बुधवार को पटना मेडिकल कॉलेज आए थे और दोनों की हालत नाजुक बनी हुई थी। दोनों को इमरजेंसी में भर्ती किया गया था और इलाज किया जा रहा था। इस दौरान इलाज करने वाले डॉक्टरों को लक्षण देख कोरोना की आशंका हुई और आनन-फानन में दोनों को पीएमसीएच के ही आइसोलेशन वार्ड में भर्ती करा दिया गया। गुरुवार की सुबह दोनों ने 15 मिनट के अंतराल पर दम तोड़ दिया, जिसके बाद हड़कंप मच गया। दोनों का नमूना लेकर जांच के लिए भेजा गया है।

इमरजेंसी में भर्ती मरीजों में हड़कंप 
पटना मेडिकल कॉलेज में जहां दोनों मरीजों को भर्ती कराया गया था, वहां भर्ती अन्य मरीजों में हड़कंप मचा है। दोनों की मौत की खबर मिलते ही डॉक्टर भी परेशान हो गए। वह समझ ही नहीं पा रहे हैं कि अचानक से क्या हो गया। डॉक्टर रिपोर्ट आने तक दहशत में हैं। डॉक्टरों के साथ इलाज में लगीं नर्स और पैरा मेडिकल स्टॉफ र्की ंचता बढ़ गई है। गुरुवार को पूरे दिन अफरा-तफरी का माहौल रहा। डॉक्टरों का कहना है कि सुरक्षा को लेकर हर उपाय अपनाया गया था, लेकिन कोरोना के संदिग्ध मरीजों को लेकर काफी डर रहता है। इमरजेंसी में कई मरीज थ।े ऐसे में संक्रमण का भी बड़ा डर होता है। पटना एम्स में सैफ की मौत के पूर्व इलाज के दौरान दो अस्पतालों में संक्रमण फैलने की पुष्टि हो चुकी है। 

एक की रिपोर्ट आई निगेटिव 
पीएमसीएच के आईसोलेशन वार्ड में भर्ती मरीजों को लेकर पटना मेडिकल कॉलेज कुछ नहीं बता रहा है। मेडिकल कॉलेज प्रशासन का कहना है कि एक मरीज मुजफ्फर का है, जिसकी उम्र 65 साल है, जबकि दूसरा बेगूसराय का है, जिसे चेस्ट इंफेक्शन लग रहा था। मुजफ्फरपुर वाले मरीज के बारे में एआईएस बताया जा रहा है, जिसे एम्स से पीएमसीएच लाया गया था। दोनों की कोरोना जांच के लिए नमूना भेजा गया है। अधीक्षक डॉ बिमल कारक का कहना है कि दोनों की जांच के लिए नमूना भेजा गया है। उनका कहना है कि रिपोट आने के बाद ही कुछ कहा जा सकता है। हालांकि पूरे दिन कोई भी जिम्मेदार इस मामले में मुंह खोलने को तैयार नहीं था। बताया गया कि इस घटना में उच्चाधिकारी ही ब्रीफ करेंगे। 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें