ठंड में सताने लगते हैं तरह-तरह के दर्द

Malay, Last updated: 13/12/2019 01:19 PM IST
तापमान में गिरावट के साथ शरीर में हड्िडयों के जोड़ सख्त हो जाते हैं, जिससे शरीर के सभी अंगों में खून ठीक से नहीं पहुंच पाता है। यही स्थिति हड्डियों और जोड़ों में दर्द तथा कठोरता का कारण बनती है।...
प्रतीकात्मक तस्वीर

तापमान में गिरावट के साथ शरीर में हड्िडयों के जोड़ सख्त हो जाते हैं, जिससे शरीर के सभी अंगों में खून ठीक से नहीं पहुंच पाता है। यही स्थिति हड्डियों और जोड़ों में दर्द तथा कठोरता का कारण बनती है। यूनिवर्सिटी ऑफ मैनचेस्टर ने अपने ताजा अध्ययन में पाया है कि बादल मंडराने, तेज हवाएं चलने या तापमान में गिरावट होने से शरीर में दर्द महसूस होता है या पुराना दर्द उभरकर आता है। खासतौर पर हड्डियों और जोड़ों का दर्द परेशान करता है। आर्थोपेडिक समस्याओं से पीड़ित लोगों के लिए तापमान में गिरावट ज्यादा मुश्किल वाला समय रहता है। जो लोग सर्दी के मौसम में शारीरिक श्रम कम करते हैं, उन्हें परेशानी होती है। खराब मौसम लोगों के मूड को भी प्रभावित कर सकता है। यदि कोई उदास या अवसाद में है तो उसे दर्द ज्यादा महसूस होगा।

डॉक्टर को कब दिखाएं? 
यदि मरीज को जोड़ों के दर्द के साथ कोई असामान्य या नए लक्षण अनुभव होते हैं - जैसे लगातार सूजन, चेहरा लाल होना, हड्डियों के जोड़ों पर दबाव डालने में कठिनाई, तो बिना देर किए डॉक्टरों को दिखाना चाहिए। यदि दर्द लगातार बना रहता हो या फिर गंभीर दर्द है, जो असहनीय हो जाता है तो घरेलू इलाज छोड़कर डॉक्टर की सलाह लेना चाहिए।

ठंड में जोड़ों के दर्द का इलाज 
शुरुआती इलाज दवाओं से किया जाता है, लेकिन गठिया में स्थिति गंभीर होने पर सर्जरी की नौबत भी आ सकती है। आमतौर पर डॉक्टर दर्द कम करने वाली दवाएं देते हैं। इसके अलावा सूजन कम करने, रोगों से लड़ने की ताकत बढ़ाने वाली दवाएं दी जाती हैं। कई तरह के जेल और क्रीम उपलब्ध हैं, जिनकी मॉलिश से आराम मिलता है। सरल व्यायाम करने से मांसपेशियां मजबूत होंगी और हाथ-पैरों को आसानी से हिलाने में मदद मिलेगी। सर्दी के मौसम में हवा, ठंड और शुष्कता के कारण वात दोष बढ़ जाते हैं। इसके कारण होने वाले जोड़ों और हड्डियों के दर्द का सस्ता इलाज है तेल मॉलिश। खासतौर पर आयुर्वेदिक दवाओं में कई तरह के तेल उपलब्ध हैं, जो इस तरह के दर्द में बहुत फायदा पहुंचाते हैं। 

बरतें ये सावधानियां 
जोड़ों के दर्द से पीड़ित लोगों को एक संतुलित आहार की आवश्यकता होती है। विटामिन डी, सी और के युक्त खाद्य पदार्थ दर्द से राहत दिलाने में मददगार हैं। आहार में संतरे, पत्तागोभी, पालक, टमाटर को शामिल करें, क्योंकि वे सुपर फूड हैं और घुटने के दर्द से राहत दिलाते हैं। जिन लोगों में विटामिन डी का स्तर बहुत कम है, वे डॉक्टर को दिखाने के बाद दवाएं ले सकते हैं। खुद को अच्छी तरह से हाइड्रेटेड रखें यानी थोड़ी-थोड़ी देर में पानी या तरल पदार्थ लेते रहें। सर्दियों में पानी कम पिया जाता है, जो नुकसानदायक हो सकता है, क्योंकि जोड़ों वाले स्थान का चिकना होना जरूरी है। यदि हड्डियां आपस में टकराएंगी तो दर्द होगा। इसलिए शरीर को हाइड्रेटेड रखने की आवश्यकता है। सर्दियों में दर्द को कम करने के लिए, घुटने के गार्ड पहनना मददगार हो सकता है। बाजार में घुटने की सुरक्षा करने वाले कई प्रकार के साधन हैं, जो घुटने के दर्द में आराम प्रदान करते हैं।

अन्य खबरें