छात्रों ने की बिहार बोर्ड मैट्रिक और इंटर परीक्षा स्थगित करने की मांग,जानें कारण

Smart News Team, Last updated: Thu, 21st Jan 2021, 2:53 PM IST
फरवरी माह में आयोजित होने वाली बिहार मैट्रिक और इंटर की परीक्षा को विद्यार्थियों ने स्थगित करने की मांग की है. उनका कहना है कि कोरोना काल में स्कूल कई माह से बंद थे. इसके अलावा ऑनलाइन क्लास की सुविधा भी नहीं मिल पाई है. ऐसे में वे अन्य बोर्डों से पिछड़ जाएंगे.
विद्यार्थियों ने बिहार बोर्ड मैट्रिक और इंटर परीक्षा स्थगित करने की मांग की है.

पटना. बिहार बोर्ड मैट्रिक और इंटर की परीक्षा देने जा रहे हजारों परीक्षार्थियों ने सुरक्षा कारणों और खराब तैयारी के कारण एग्जाम स्थगित करने की मांग की है. विद्यार्थियों का कहना है कि पिछले कई माह से स्कूल बंद है जिसकी वजह से उनकी पढ़ाई नहीं हो पाई है. इसके अलावा उनके पास ऑनलाइन क्लास की सुविधा भी नहीं थी. इसलिए उन्हें कोर्स के रिवीजन का समय भी नहीं मिल पाया है.

आपको बता दें कि बिहार बोर्ड इंटर परीक्षा 1 से 13 फरवरी और मैट्रिक परीक्षा 17 से 24 फरवरी तक आयोजित होंगी. इस ओर विद्यार्थियों का कहना है कि बिहार बोर्ड उनके भविष्य के साथ खिलवाड़ कर रहा है. इस कोरोना महामारी के दौर में सीबीएसई जैसे केंद्रीय बोर्डों की तरह ना तो परीक्षा का शेड्यूल 2 से 3 महीने आगे बढ़ाया है और ना ही कोर्स कम किया है. बिहार बोर्ड अपने परीक्षा कैलेंडर पर अड़ा हुआ है.

मैट्रिक पेपर एडमिट कार्ड के फोटो में गलती तो आधार कार्ड से हो प्रवेश: BSEB

एक सरकारी स्कूल के छात्र का कहना है कि मेरे स्कूल में पिछले 10 माह से कोई ऑनलाइन क्लास नहीं थी. हमें तैयारी के लिए ज्यादातर ट्यूशन पर निर्भर होना पड़ता है लेकिन कोरोना के चलते वह भी बंद हो गए. ऐसे में मुझे संदेह है कि मैं पास भी हो पाऊंगा या नहीं. एक अन्य छात्र का कहना है कि बीएसईबी हमारे साथ अन्याय कर रहा है उसने न तो सिलेबस कम किया है और न ही तैयारी के लिए अतिरिक्त समय दिया है. ऐसी स्थिति में हम अन्य बोर्ड के छात्रों से पिछड़ जाएंगे और अच्छे कॉलेजों में सीट हासिल नहीं कर पाएंगे.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें