पटना में स्कूल से वापस लौटे छात्र, कमरों में पुलिस के रुकने से नहीं हुई पढ़ाई

Smart News Team, Last updated: Tue, 9th Feb 2021, 2:45 PM IST
  • कोरोना काल से बंद चल रहे स्कूल में 10 महीने बाद कदम रखने वाले बच्चों को स्कूल परिसर से पुलिसकर्मियों के कब्जे के कारण वापस होना पड़ा. स्कूल परिसर पर पुलिस का कब्जा होने के कारण स्कूल बंद कर दिया गया.
स्कूल के कमरों में पुलिसकर्मियों का कब्जा

पटना: कोरोना काल से बंद चल रहे स्कूल में 10 महीने बाद कदम रखने वाले बच्चों को स्कूल परिसर से पुलिसकर्मियों के कब्जे के कारण वापस होना पड़ा. यहां के अदालतगंज के कन्या मध्य विद्यालय में छठी और 8वीं के बच्चे सुबह 10 बजे स्कूल पहुंचे तो उन्हें स्कूल से वापस कर दिया गया, क्योंकि स्कूल परिसर पर पुलिस का कब्जा होने के कारण स्कूल बंद कर दिया गया.

इस स्कूल में कुल 12 कमरे हैं और सभी कमरों में पुलिसकर्मी रह रहे हैं. इतना ही नहीं यहां कोरोना संक्रमण से बचाव का भी कोई इंतजाम नहीं है. स्कूल के प्राचार्य ने डीईओ को सूचना देकर स्कूल बंद रखा. ऐसा ही नज़ारा बालक मध्य विद्यालय गोलघर का भी है. जहां स्कूल में 10 कमरे हैं, लेकिन हर कमरे में पुलिसकर्मी रुके हुए हैं. इसके अलावा जेडी गर्ल्स हाई स्कूल और प्राथमिक विद्यालय अदालतगंज भी पुलिस वालों के रहने के कारण बंद रखा गया.

बिहार कैडर के 12 IAS जाएंगे प्रशिक्षण पर, मसूरी में होगा कार्यक्रम

आपको बता दें कि शिक्षा विभाग की ओर से 10 महीने बाद छठीं से आठवीं तक के स्कूल खोलने का आदेश दिया गया था, लेकिन पटना के कई स्कूलों पर पुलिसकर्मियों का कब्जा है. पिछले 10 से 12 महीनों से पुलिसकर्मी स्कूल परिसर के सभी कमरों और बरामदे में रह रहे हैं. कक्षाओं को रसोई घर और सोने का कमरा बना दिया गया है.

देश का सबसे बड़ा अस्पताल बनेगा पीएमसीएच, आधुनिक सुविधाओं से होगा लैस

गृह मंत्रालय के दिशा निर्देश के अनुसार स्कूल खोलने से पहले पूरे परिसर की साफ सफाई कर सेनेटाइज करना है। इसके बाद सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए छात्रों को बैठाना है. यही कारण है कि स्कूल को बंद रखा गया.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें