सक्सेस स्टोरी: पटना के किसान ने स्ट्रॉबेरी की उन्नत खेती से तीन महीने में कमाए डेढ़ लाख

Ruchi Sharma, Last updated: Thu, 13th Jan 2022, 2:58 PM IST
  • पटना के रहने वाले 32 साल है रविशंकर ने स्ट्राबेरी और मशरूम की खेती कर तीन महीने में डेढ़ लाख रुपये कमाये हैं. उनका कहना हैं कि इतने पैसे किसी मल्टीनेशनल कंपनी में अच्छी मार्केटिंग की पढ़ाई के बाद भी नहीं कमा पाते. रविशंकर को आत्मा पटना से स्ट्राबेरी की खेती की जानकारी मिली थी.
स्ट्राबेरी और मशरूम की खेती करते हुए रविशंकर (फाइल फोटो)

सविता, पटना. गांव में लोग कहते हैं कि खेती से क्या होगा, इस मिथ तोड़ने के लिए मैंने पढ़ाई के बाद खेती को अपने कॅरियर के रूप में अपनाया है. मेरी उम्र 32 साल है और मैं चाहता हूं कि गांव में ही रोजगार के नये द्वार खोलूं. इसी सोच के साथ मैंने मनेर के भवानीटोला गांव में स्ट्राबेरी और मशरूम की खेती शुरू की है. इसके बदौलत तीन महीने में डेढ़ लाख रुपये कमाये हैं. इतने पैसे किसी मल्टीनेशनल कंपनी में अच्छी मार्केटिंग की पढ़ाई के बाद भी नहीं कमा पाते. यह कहना है रविशंकर का.

वे बताते हैं आत्मा पटना से स्ट्राबेरी की खेती की जानकारी मिली थी. आगे दोस्तों की मदद से अपनी खेती को विस्तार दिया. अभी एक एकड़ में स्ट्राबेरी और मशरूम की खेती 400 वर्गफीट में कर रहे हैं. खेती से मैंने सात युवाओं को रोजगार दिया है. मैं खुश हूं कि जॉब करते हुए इतने लोगों को मदद नहीं कर पाता. आज सारे उत्पाद पटना में बिक जाते हैं, लेकिन जितनी बाजार की मांग है. उसके मुताबिक उत्पादन नहीं कर पा रहा हूं. अब मैं ड्रैगन फ्रूट की खेती की शुरुआत करने जा रहा हूं. मैं बस यही कहूंगा कि खेती को साकारात्मक सोच के साथ अपनाये क्योंकि हम रह कहीं भी ले, पहन कुछ ले, लेकिन खाएंगे अनाज ही. और भोजन से बड़ा बाजार कुछ भी नहीं होता.

 

कतरनी चूड़ा, सिलाव खाजा,भागलपुर सिल्क, मधुबनी पेंटिंग, बिट्सकार्ट पर सब मिलता है

 

बता दें कि कोरोना संक्रमण के चलते जहां कई बिजनेस ठप पड़े हैं और लोगों को नुकसान उठाना पड़ रहा है. वहीं 32 साल के रविशंकर ने स्ट्राबेरी और मशरूम की खेती को करते हुए लाखों रुपए कमाए हैं. मशरूम उत्पादन व स्ट्रॉबेरी की खेती से कम रकबे में कम लागत में अच्छा मुनाफा कमाने का जरिया इनको मिला है. इस फल का पौधा एक फीट ऊंचाई तक पहुंचता है. बाजरों में स्ट्राबेरी की मांग काफी अधिक है और दाम भी अच्छे मिलते हैं. अगर मांग अच्छी हो तो फिर अच्छा खासा मूल्य मिल जाता है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें