चिराग पासवान की मांग, सुशांत सिंह केस में सीएम नीतीश करें सीबीआई जांच की पहल

Smart News Team, Last updated: 30/07/2020 08:00 PM IST
सुशांत सिंह राजपूत आत्महत्या मामले में लोजपा अध्यक्ष चिराग पासवान ने मांग उठाई है कि इस मामले की सीबीआई जांच के लिए बिहार के सीएम नीतीश कुमार पहल करें. इस केस में सुशांत के पिता ने अभिनेत्री रिया चक्रवर्ती के खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाई है. पटना पुलिस मामले की जांच के लिए मुंबई में है.
सुशांत सिंह राजपूत आत्महत्या मामले में लोजपा अध्यक्ष चिराग पासवान ने मांग उठाई है कि इस मामले की सीबीआई जांच के लिए बिहार के सीएम नीतीश कुमार पहल करें.

लोजपा अध्यक्ष चिराग पासवान ने बिहार मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से आग्रह किया है कि वह सुशांत सिंह राजपूत आत्महत्या मामले में सच्चाई सामने लाने के लिए सीबीआई जांच की पहल आगे बढ़कर करें. उन्होंने कहा कि सुशांत सिंह राजपूत की मौत की सच्चाई बिहार के साथ ही पूरा देश जानना चाहता है. बता दें कि सुशांत के पिता केके सिंह ने अभिनेत्री रिया चक्रवर्ती के खिलाफ इस मामले में एफआईआर दर्ज करवाई है.

सुशांत के पिता ने आरोप लगाया है कि रिया ने सुशांत के पैसे हड़पे और उन्हें आत्महत्या के लिए उकसाया. इस मामले की जांच के लिए पटना से एक एसआईटी मुंबई जाकर जांच में जुट गई है. अब तक महाराष्ट्र व बिहार दोनों राज्यों की पुलिस इस मामले की जांच कर रही है. रिया ने सुप्रीम कोर्ट से मांग की है कि केस मुंबई में ट्रांसफर किया जाए. वहीं सुशांत के पिता के वकील का कहना है कि वो पटना पुलिस से मामले की जांच करवाना चाहते हैं.

रिया चक्रवती की केस ट्रांसफर अपील के खिलाफ सुशांत सिंह का परिवार भी SC पहुंचा

सुशांत ने लगभग डेढ़ महीने पहले अपने मुंबई स्थित फ्लैट में फांसी लगाकर आत्महत्या की थी. तभी से उनके फैंस मांग कर रहे थे कि इस मामले की सीबीआई जांच हो. हालांकि सुशांत के परिजनों ने अभी तक सीबीआई जांच की मांग नहीं की है. उनका कहना है कि मुंबई पुलिस ने इस मामले में एफआईआर दर्ज नहीं की थी. उन्होंने पटना में एफआईआर दर्ज करवाई है. 

सुशांत सिंह मामले में लापरवाही कर रही नीतीश सरकार, भगवान भरोसे बिहार: तेजस्वी

लोजपा के प्रवक्ता श्रवण कुमार अग्रवाल ने जानकारी देते हुए कहा कि महाराष्ट्र व बिहार दोनों राज्यों की पुलिस इस मामले की जांच कर रही है लेकिन सच सामने नहीं आया है. ऐसे में मुख्यमंत्री को पहल कर इसकी जांच सीबीअई को सौंपने का प्रयास करना चाहिए.
 

अन्य खबरें