सुशांत के करीबी ने रिया को थाने बुलाकर दबाव बनाने को कहा, मुंबई पुलिस का दावा

Smart News Team, Last updated: 05/08/2020 03:50 PM IST
मुंबई पुलिस उपायुक्त ने एक टीवी चैनल को बताया कि सुशांत सिंह राजपूत के जीजा ने रिया चक्रवर्ती को पुलिस स्टेशन बुलाने और उसपर दबाव बनाने के लिए कहा था.
सुशांत सिंह राजपूत के करीबी ने मुंबई पुलिस पर दबाव बनाया था.

सुशांत सिंह राजपूत मामले में मुंबई पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने दावा किया कि सुशांत के जीजा एवं भारतीय पुलिस सेवा के अधिकारी ने उनपर रिया चक्रवर्ती को थाने बुलाने और उसपर दबाव बनाने के लिए कहा था. 

पुलिस उपायुक्त ने एक टीवी चैनल को बताया कि वह एक अप्रैल तक बांद्रा जोनल के पुलिस प्रमुख थे तब सुशांत के जीजा एवं आईपीएस सिंह ने उनसे कहा था कि राजपूत के परिवार को लगता है कि रिया अभिनेता को नियंत्रित करने कर रही है और वह उसे सुशांत की जिंदगी से बाहर करना चाहते हैं. इसी के साथ परमजीत सिंह दहिया ने कहा कि परिवार ने किसी भी तरह की लिखित शिकायत दर्ज नहीं की थी. 

SC में मुंबई पुलिस के वकील बोले- बिहार पुलिस ने खुद छोड़ा केस, हमसे कर रहे बहस

हरियाणा के वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी ओ. पी. सिंह ने 18 और 25 फरवरी को मुंबई पुलिस के उपायुक्त से व्हॉट्सएप पर मैसेज के जरिए अनौपचारिक तौर पर अनुरोध किया था. मुंबई पुलिस ने कहा कि सुशांत के जीजा सिंह ने मिरांडा नाम के व्यक्ति को बिना किसी शिकायत या जांच के पुलिस हिरासत में रखने का अनुरोध भी किया था. 

सुशांत के वकील की SC से गुजारिश- ना दें जांच रोकने के आदेश, सबूत हो जाएंगे नष्ट

मुंबई पुलिस उपायुक्त ने सुशांत के जीजा से कहा कि किसी को भी थाने बुलाना और हिरासत में रखना मुमकिन नहीं है क्योंकि यह कार्यप्रणाली के विरुद्ध है. पुलिस ने सिंह से शिकायत दर्ज करने के लिए कहा था जिससे मामले की जांच की जा सके. 

सुशांत केस में जांच पर SC की रोक नहीं, CBI जांच का आदेश आज निकालेगी सरकार

सुशांत सिंह राजपूत के पिता के. के. सिंह ने एक वीडियो में कहा कि 25 फरवरी को मुंबई पुलिस को उनके बेटे की जान खतरे में होने की सूचना देते हुए आगाह किया गया था. वहीं मुंबई पुलिस आयुक्त परम बीर सिंह ने सोमवार को बताया कि परिवार से पूछताछ के दौरान उन्होनें किसी भी तरह का संदेह व्यक्त नहीं किया था. शहर की पुलिस ने 16 जून को परिवार के बयान दर्ज किए थे.

सुशांत सिंह केस: SC में रिया चक्रवर्ती की जांच पर रोक लगाने की मांग खारिज

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें