तेजस्वी यादव का हमला- बिहार की जनता से माफी मांगें NDA के 39 सांसद और 5 मंत्री

Smart News Team, Last updated: Tue, 20th Apr 2021, 10:32 PM IST
नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने बिहार में एनडीए के 39 सांसदों और पांच केंद्रीय मंत्रियों को बिगड़ते हालात में सहायता न कर पाने की स्थिति में जनता से मांफी मांगना चाहिए. तेजस्वी ने कहा कि केंद्र सरकार दूसरे राज्यों को सहायता दे रहा है तो बिहार राज्य को सहायता क्यों नहीं मिल पा रहा है.
तेजस्वी यादव. (फाइल फ़ोटो)

पटना : बिहार के नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने कोरोना से बिगड़े बिहार की स्वास्थ्य सेवाओं को लेकर चिंता जताया है। तेजस्वी यादव ने अपने ट्विटर एकाउंट से ट्वीट करके बिहार और केंद्र सरकार पर आरोप लगाया है. तेजस्वी यादव ने नीतीश कुमार पर निशाना साधते हुए लिखा कि क्या बिहार सरकार इस आपदा के वक्त भी केंद्र की सरकार से जरूरी मदद नहीं मांग सकती या केंद्र सरकार कोई सहायता नहीं कर सकता. नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार स्थिति स्पष्ट करने की मांग की है. उन्होंने एनडीए पर आरोप लगाया कि क्या बिहार की जनता उनको इस महामारी के समय चुप रहने के लिए चुना है. 

तेजस्वी कुमार ने आगे कहा कि बिहार के 40 में से 39 सांसदों और पांच केंद्रीय मंत्रियों को बिहार की जनता से माफी मांगना चाहिए. इस महामारी के समय वह बिहार की जनता के किसी काम नहीं आ रहे हैं. तेजस्वी ने कहा कि केंद्र गुजरात और यूपी में डीआरडीओ रक्षा मंत्रालय के माध्यम से डॉक्टर की व्यवस्था और ऑक्सीजन की सुविधा दे रहे हैं. ऐसी सुविधा बिहार के लिए क्यों नहीं. क्या सरकार के पास बिहार के 12 करोड़ वासियों के सवालों का जवाब है. कोरोना महामारी के शुरुआती दिनों में एनडीए सरकार कोरोना वायरस को मानने को तैयार ही नहीं थी. लेकिन जब माना तो नमस्ते ट्रंप थाली बनवाया दीया बत्ती जलवा रही थी. 

जमानत मिलने के बाद भी अभी नहीं होगी लालू की रिहाई, कोरोना बना वजह, जानें

उधर जन अधिकार पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पप्पू यादव ने मंदिरी स्थित पार्टी कार्यालय में मंगलवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस किया. उन्होंने कहा कि सरकार कहती है कि एनएमसीएच में 500 बेड का कोविड का अस्पताल बनाया गया है. लेकिन जरूरत इससे ज्यादा की है. कोविड-19 अस्पतालों में मरीजों को खाना खिलाने के लिए कोई नहीं है. एंबुलेंस के ड्राइवर मरीज को दूसरे अस्पताल में छोड़ने के लिए 12 हजार रुपए ले रहे हैं. पप्पू यादव ने आगे कहा कि एम्स के निर्देशक कह चुके हैं, कि रेमडेसिविर दवा कोरोना का इलाज नहीं है फिर इस पर बैन क्यों नहीं लग रहा है. जनता गलत जानकारी के कारण इस दवा को महंगे दामों पर खरीद रही है.इस दवा पर रोक लगानी चाहिए.

IMA ने बिहार के 40 डॉक्टरों के नाम और नंबर किए जारी, कोरोना मरीज ले सकेंगे सलाह

ऑक्सीजन सिलेंडर की कमी के कारण अस्पतालों ने मरीजों को एडमिट करने से किया मना

पटना में सप्ताह के किस दिन कौन सी दुकानें खोली जाएंगी, जानें फुल डिटेल्स

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें