RJD चुनाव नतीजा कमिटी पता करेगी- सरकार बना रहे तेजस्वी विपक्ष में कैसे लटक गए

Smart News Team, Last updated: 02/12/2020 10:03 PM IST
  • आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने पूर्व मंत्री श्याम रजक की अगुवाई में एक कमिटी बनाई है जो हारे कैंडिडेट और राजद नेताओं से बातचीत करके ये बता लगाएगी कि सरकार बन रही है के माहौल में भी तेजस्वी यादव कैसे विपक्ष के नेता में लटक गए.
श्याम रजक जेडीयू छोड़कर आरजेडी में आए थे लेकिन उनकी खुद की फुलवारीशरीफ सीट महागठबंधन में माले के पास चली गई. अब वो पार्टी की विधानसभा चुनाव में हार की पोस्टमार्टम करेंगे.

पटना. लालू यादव के राष्ट्रीय जनता दल के नेता और पूर्व डिप्टी तेजस्वी यादव ने पूर्व मंत्री श्याम रजक को विधानसभा चुनाव में पार्टी और महागठबंधन की सरकार बनाने वाले माहौल में हार के कारणों की जांच-पड़ताल के लिए एक कमिटी का हेड बनाया है. इस कमिटी को हारे हुए पार्टी कैंडिडेट्स और पार्टी के नेताओं से बात करके तेजस्वी यादव को ये बताना है कि महागठबंधन में मिली 144 सीट में पार्टी 69 सीट कैसे हार गई. 

कमिटी के हेड श्याम रजक ने कहा कि पार्टी ने सभी हारे हुए उम्मीदवारों और पार्टी में प्रमंडल के वरिष्ठ नेताओं को पटना बुलाया है. हम इन सबसे बात करके ये पता लगाने की कोशिश करेंगे कि जिन सीटों को जीतने के चांस थे, वो सीट हम कैसे हार गए. पार्टी मतगणना पर भी कैंडिडेट और नेताओं के फीडबैक लेगी. श्याम रजक की इस कमिटी को 15 दिन में अपनी रिपोर्ट देनी है.

JDU छोड़ RJD में आए श्याम रजक के साथ हो गया खेल, टिकट तो दूर की बात, प्रचारक भी नहीं बन सके

बिहार विधानसभा चुनाव में कुछ चुनाव सर्वेक्षण में तेजस्वी यादव की सरकार बनती दिखाई गई थी लेकिन पार्टी लड़ी हुई 144 में 74 सीट पर ही जीत हासिल कर सकी. आरजेडी का चुनाव में 50 परसेंट से ऊपर का स्ट्राइक रेट रहा लेकिन उत्तर बिहार, कोसी और सीमांचल में पार्टी की हार के कारण महागठबंधन की सरकार और तेजस्वी यादव मुख्यमंत्री बनते-बनते रह गए. 

तेजस्वी का हमला- एक महीने में 19 लाख को रोजगार नहीं मिला तो होगा जन आंदोलन

सीमांचल में आरजेडी 11 सीट लड़ी लेकिन सिर्फ एक सीट जीत सकी. कोसी में 13 सीट पर राजद के कैंडिडेट थे लेकिन विधानसभा पहुंचे सिर्फ दो. पार्टी सूत्रों का कहना है कि सरसरी समीक्षा में ये बात आई है कि पार्टी ने अति पिछड़ा के 21 कैंडिडेट को टिकट दिया लेकिन उनका वोट नहीं जुटा सकी. किशनगंज, कटिहार और अररिया में हैदराबाद सांसद असदुद्दीन ओवैसी की एमआईएम ने भी आरजेडी का खेल काफी बिगाड़ा. विधानसभा में ओवैसी की पार्टी के पांच विधायक पहुंचे हैं.

तेजस्वी यादव पर चल रहे दर्जनों मुकदमे, नेता प्रतिपक्ष से दें इस्तीफाः जेडीयू

आरजेडी के नेतृत्व वाले महागठबंधन को विधानसभा में 110 सीट मिली है और बहुमत के नंबर 122 से ये 10 सीट पीछे रह गए. आरजेडी ने मतगणना में गड़बड़ी और बहुमत की चोरी जैसे आरोप लगाकर नीतीश कुमार के शपथग्रहण का भी बहिष्कार किया था.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें