तेज प्रताप यादव के निर्वाचन को पटना हाई कोर्ट में चुनौती, 30 सितंबर को सुनवाई, ये है मामला

Somya Sri, Last updated: Thu, 2nd Sep 2021, 4:38 PM IST
  • जस्टिस वीरेंद्र कुमार ने इस मामले को कोर्ट के रिकॉर्ड पर रखने का आदेश देते हुए अगली सुनवाई 30 सितंबर निर्धारित की है. 30 सितंबर को सेटलमेंट ऑफ इशू और गवाही पर सुनवाई की जाएगी. गवाही में संबंधित पक्षकारों की ओर से दस्तावेजों और गवाहों की सूची भी दी जाएगी.
बिहार के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री और हसनपुर विधायक तेज प्रताप यादव (फाइल फोटो)

पटना: बिहार के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री और हसनपुर विधायक तेज प्रताप यादव के निर्वाचन क्षेत्र से निर्वाचन को चुनौती देने वाली याचिका पर पटना हाईकोर्ट में आज सुनवाई हुई. जिसमें जस्टिस वीरेंद्र कुमार ने इस मामले को कोर्ट के रिकॉर्ड पर रखने का आदेश देते हुए अगली सुनवाई 30 सितंबर निर्धारित की है. 30 सितंबर को सेटलमेंट ऑफ इशू और गवाही पर सुनवाई की जाएगी. गवाही में संबंधित पक्षकारों की ओर से दस्तावेजों और गवाहों की सूची भी दी जाएगी.

मालूम हो कि साल 2020 में बिहार विधानसभा चुनाव में लालू यादव के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव राष्ट्रीय जनता दल पार्टी की ओर से हसनपुरा निर्वाचन क्षेत्र पर चुनाव लड़े थे और उनकी जीत हुई थी. इसी निर्वाचन क्षेत्र से विजय कुमार यादव ने चुनाव याचिका दायर कर तेज प्रताप यादव के विधायक निर्वाचित किए जाने को चुनौती दे दी है. याचिका में विजय कुमार यादव की ओर से दावा किया गया है कि चुनाव के लिए नामांकन पत्र में जानबूझकर तेज प्रताप ने अपनी संपत्ति का ब्यौरा नहीं दिया. इसलिए उन्हें अमान्य घोषित करते हुए इसी सीट पर जदयू के उम्मीदवार राज कुमार राय को विजयी घोषित करना चाहिए.

तेज प्रताप के साथ विवाद पर BJP विधायक ने जगदानंद सिंह पर किया तंज, कहा- राजनीति छोड़कर गांव लौट जाएं

बता दें कि बिहार विधानसभा चुनाव के लिए नामांकन 16 अक्टूबर 2020 को दाखिल किया गया था. नामांकन पत्र की जांच 17 अक्टूबर को की गई. 19 अक्टूबर को नामांकन वापस लेने की अंतिम तिथि थी. 3 नवंबर को चुनाव हुआ और 10 नवंबर को चुनाव परिणाम घोषित किए गए. जिसमें तेज प्रताप यादव की हसनपुर सीट से जीत दर्ज हुई. तेज प्रताप यादव के अधिवक्ता जगन्नाथ सिंह ने बताया कि याचिकाकर्ता ने जनप्रतिनिधि एक्ट, 1951 की धारा 100 का हवाला देते हुए तेज प्रताप यादव के निर्वाचन को अमान्य घोषित करने के लिए यह चुनाव याचिका दायर की है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें