रूपसपुर में ट्रैक्टर ने स्कूटी को कुचला, स्कूटी सवार की मौत, ट्रैक्टर चालक फरार

Smart News Team, Last updated: 25/10/2020 08:35 PM IST
  • पटना में आए दिन सड़क हादसे हो रहे हैं, जिसे लेकर लोगों में गुस्सा है. रविवार को भी रूपसपुर थाना क्षेत्र में सड़क हादसा हुआ. जिसमें ट्रैक्टर की स्कूटी के साथ हुई टक्कर में स्कूटी सवार की मौत हो गई. पुलिस ने पोस्टमार्टम के बाद शव स्वजनों को सौंप दिया है और फरार ट्रैक्टर चालक की तालाश शुरू कर दी है.
पटना में रविवार को हुए सड़क हादसे में एक व्यक्ति की मौत हो गई.

पटना.जिले के रूपसपुर थाना क्षेत्र में सड़क हादसे के दौरान एक व्यक्ति की मौत हो गई. हादसा रूपसपुर थाना क्षेत्र के डीपीएस मोड़ के पास की है. जहां एक अनियंत्रित ट्रैक्टर ने एक स्कूटी को अपनी चपेट में ले लिया. जिससे स्कूटी सवार की मौके पर ही मौत हो गई. हादसे के दौरान भीड़ इकट्ठा हो गई और लोगों ने पुलिस को सूचना दी. सूचना पर पहुंची यातायात पुलिस ने शव कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए अस्पताल भेज दिया है. पता चला है सड़क हादसे के बाद ट्रैक्टर चालक मौके से फरार हो गया. पुलिस की ओर से ट्रैक्टर को जब्त कर लिया गया है और आगे की कार्रवाई शुरू कर दी गई है.

जानकारी के मुताबिक शिव शंकर लाल पुत्र ज्योतिष कुमार (43) निवासी मुबारकपुर शाहपुर थाना क्षेत्र की शेखपुरा में दुकान है. रविवार को ज्योतिष शेखपुरा स्थित अपनी दुकान पर स्कूटी पर सवार होकर जा रहा था. रास्ते में डीपीएस मोड़ के निकट पीछे से ट्रैक्टर ने स्कूटी में टक्कर मार दी। हादसा इतना भयंकर था कि ज्योतिष की मौके पर ही दर्दनाक मौत हो गई। घटना की खबर लगते ही ज्योतिष के स्वजन अस्पताल पहुंचे। स्वजनों ने बताया कि वह घर से दुकान पर जाने के लिए स्कूटी से निकले थे. उन्हें क्या पता था कि रास्ते में हादसा हो जाएगा.

बिहार चुनाव: JDU नेता वशिष्ठ नारायण ने कहा- चिराग ने तेजस्वी से हाथ मिला लिया

गौर हो कि ज्योतिष के स्वजनों और अन्य लोगों में आए दिन हो रहे हादसों पर गुस्सा है. लोग पुलिस से सख्त कार्रवाई किए जाने की मांग कर रहे हैं. पुलिस ने ट्रैक्टर चालक की तलाश शुरू कर दी है. मामले की गंभीरता से जांच की जा रही है. ट्रैफिक पुलिस के थानाध्यक्ष अमर नाथ चौहान का कहना है कि ट्रैक्टर को जब्त कर लिया गया है. ट्रैक्टर चालक मौके से ट्रैक्टर छोड़कर फरार हो गया था. शव को भी कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम करने के बाद स्वजनों को सौंप दिया गया है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें