सिकंदराबाद से पटना आ रही ट्रेन की टूटी कपलिंग,बोगियों को पीछे छोड़ आगे भागा इंजन

Smart News Team, Last updated: Wed, 3rd Mar 2021, 11:00 AM IST
  • तेलंगाना के सिकंदराबाद रेलवे स्टेशन से पटना आ रही दानापुर-सिकंदराबाद एक्सप्रेस ट्रेन एक बड़े हादसे का शिकार हो गई. हादसा नागपुर -सिकंदराबाद रूट में पड़ने वाले घनपुर रेलवे स्टेशन के पास हुआ, जहां तेज रफ्तार से आ रही दानापुर-सिकंदराबाद एक्सप्रेस ट्रेन अचानक दो भागों में बंट कर अलग अलग हो गई.
सिकंदराबाद से पटना आ रही ट्रेन की टूटी कपलिंग,बोगियों को पीछे छोड़ आगे भागा इंजन

पटना। तेलंगाना के सिकंदराबाद रेलवे स्टेशन से चल कर पटना आ रही दानापुर-सिकंदराबाद एक्सप्रेस ट्रेन बड़े हादसे का शिकार हो गई. हादसा मंगलवार की सुबह हुआ. यह हादसा नागपुर -सिकंदराबाद रूट में पड़ने वाले घनपुर रेलवे स्टेशन के पास हुआ, जहां तेज रफ्तार से आ रही दानापुर-सिकंदराबाद एक्सप्रेस ट्रेन अचानक दो भागों में बंट कर अलग अलग हो गई.

जानकारी के अनुसार मंगलवार की सुबह करीब 9:30 बजे तेलंगाना के सिकंदराबाद रेलवे स्टेशन से सिकंदराबाद- दानापुर एक्सप्रेस ट्रेन यात्रियों को लेकर बिहार के लिए स्टेशन से निकली थी. तकरीबन 100 किलोमीटर का सफर तय करने के बाद घनपुर रेलवे स्टेशन के पास अचानक ट्रेन में होने वाली कपलिंग टूटने के कारण ट्रेन का इंजन दो किलोमीटर आगे चला गया और बोगी पीछे छूट गई. अचानक होने वाली घटना से ट्रेन में सवार यात्रियों के बीच हड़कंप मच गया.

पटना HC का STET अभ्यर्थियों के हक में फैसला, तीन महीने के भीतर दोबारा हो परीक्षा

गार्ड द्वारा मामले सूचना कंट्रोल रूम को दी गई जिसके बाद इंजन को दोबारा वापस लाकर बोगी से जोड़ा गया.संयोग से ट्रेन दो हिस्‍सों में बंटने के बाद भी पटरी से नहीं उतरी और बोगियों का संतुलन बना रहा. हालांकि ट्रेन की कपलिंग टूटते ही यात्रियों को जोर का झटका महसूस हुआ और सारे यात्री सहम गए. हादसा होने के करीब 40 मिनट बाद तक ट्रेन रुकी रही. ट्रेन की मरम्मत के दौरान रूट पर ट्रेनों का परिचालन बाधित रहा.

पटना में अपराधियों का आतंक, गन प्वाइंट पर ज्योति अलंकार ज्वेलर्स में बड़ी लूट

ट्रेन में सवार एक यात्री आरा के जीरो माइल के रहने वाले दवा व्यवसायी सुमन कुमार ने बताया कि वे बेटी के नामांकन को लेकर हैदराबाद गए थे. मंगलवार को ट्रेन से वापस लौट रहे थे. अचानक घनपुर रेलवे स्टेशन के पास ट्रेन के दो भागों में बांटने के बाद सभी यात्रियों की सांसे अटक गई थीं. उन्हें लग रहा था कि बड़ा कोई हादसा हो गया है.लेकिन, ईश्वर का शुक्र था कि ट्रेन बेपटरी नहीं हुई. पीछे से कोई दूसरी ट्रेन नहीं आई. इंजन बोगी को छोड़कर दो किलोमीटर आगे चला गया था. बाद में हो-हल्ला होने के बाद पुन: इंजन को वापस लाकर जोड़ा गया. इसके बाद ट्रेन फिर पटना के लिए रवाना हो सकी. यह ट्रेन बुधवार की शाम पटना पहुंचेगी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें