पटना: गैंगवार में दो युवकों की मौत, बौखलाए पिता ने किया पड़ोसियों पर हमला

Smart News Team, Last updated: 15/09/2020 11:13 AM IST
  • अपराधी श्याम सुंदर यादव के बेटे नीतीश यादव और कुख्यात महेश यादव के बीच हुए गैंगवार में दो लोगों की हत्या कर दी गई. मरने वालों में नीतीश यादव का पड़ोसी सागर यादव और अपराधी महेश यादव का बेटा बुल्लू यादव उर्फ गुड्डू (19) शामिल है. 
गैंगवार में दो युवकों की मौत, बौखलाए पिता ने किया पड़ोसियों पर हमला

पटना. रविवार को बिहार की राजधानी पटना से सटे मोकामा थाने के कन्हाईपुर गांव में कुख्यात अपराधी श्याम सुंदर यादव के बेटे नीतीश यादव और कुख्यात महेश यादव के बीच हुए गैंगवार में दो लोगों की हत्या कर दी गई. हिंसा में मरने वालों में नीतीश यादव का पड़ोसी सागर यादव और अपराधी महेश यादव का बेटा बुल्लू यादव उर्फ गुड्डू (19) शामिल है. इससे पहले दोनों पक्षों की तरफ से 50 राउंड से अधिक फायरिंग लगभग आधे घंटे तक चलती रही. फायरिंग से पूरे गांव में अफरातफरी मची रही. घटना के बाद दोनों पक्षों में तनाव है और अब पुलिस अपराधियों की गिरफ्तारी के लिए ताबड़तोड़ दबिश दे रही है.

अधेड़ उम्र के आशिक को अवैध संबंध की मिली खौफनाक सजा, हिरासत में प्रेमिका

जानकारी के मुताबिक कन्हाईपुर गांव का रहने वाला कुख्यात अपराधी श्याम सुंदर यादव और महेश यादव के बीच कई वर्षों से दुश्मनी चल रही थी. इलाके में अपना वर्चस्व कायम करने के लिए दोनों पक्ष दर्जनों बार से अधिक आपस में भिड़ं हो चुके हैं. इन खूनी भिड़ंत में कई लोगों ने अपनी जान भी गंवाई है. इस बीच श्याम सुंदर यादव के खौफ से महेश यादव पूरे परिवार के साथ गांव छोड़कर भाग गया था. उसके डर का आलम ये था कि श्याम सुंदर यादव के दो साल तक जेल में बंद रहा उस दौरान भी महेश यादव गांव लौटने की हिम्मत नहीं जुटा पाया. इसी बीच कुछ महिने पहले कुख्यात श्याम सुंदर यादव की जेल में ही मौत हो गई. मौत की खबर पर महेश यादव परिवार के साथ फिर से गांव लौट आया और श्याम सुंदर यादव के परिवार के साथ रार शुरू कर दी.

पति ने पीटा तो गुस्से में थाने में छोड़ गई मासूम बच्चा, परेशान हो गई पुलिस

इस पर अब महेश यादव के खौफ से श्याम सुंदर यादव का बेटा नीतीश यादव, भाई मुकेश यादव गांव छोड़कर भाग गए. लेकिन रविवार की शाम करीब चार बजे नीतीश यादव अपने चाचा मुकेश यादव, नागेश्वर यादव, डिपू यादव के साथ हथियारों से लैस होकर गांव आया और महेश यादव के घर पर हमला कर दिया. मौके पर दोनों तरफ से गोलियां चलने लगीं और करीब आधे घंटे तक 50 राउंड से ज्यादा फायरिंग हुई. फायरिंग में बुल्लू यादव महेश यादव के बेटे की गोली लगने से मौके पर ही मौत हो गई. इस घटना को अंजाम देने के बाद नीतीश यादव अपने साथियों के साथ रेलवे लाइन की ओर से टाल इलाके में भाग गया. ऐसे में अपराधियों को पकड़ने के लिए पुलिस भी रेलवे लाइन की ओर गई.

पटना: दरिंदगी की हद पार! अगवा कर दो ने किशोरी का पांच दिन तक किया रेप

उधर बेटे की हत्या से तिलमिलाये और विरोधियों का समर्थक कह महेश यादव और उसके परिजनों ने लाठी-डंडों और खंती से आसपास के घरों में हमला कर दिया. इस हमले में सागर यादव और उसके भाई रज्जन यादव को खंती के प्रहार से लहूलुहान हो गए. इस हमले में सागर बुरी तरह जख्मी हो गया और पुलिस ने लौटने के बाद उसे इलाज के लिए लेकर गई. लेकिन अधिक रक्तस्राव होने से सागर ने रास्ते में ही उसने दम तोड़ दिया. वहीं, उसके भाई रज्जन यादव को इलाज के लिए पटना में इलाज चल रहा है. वहीं गांव वालों का आरोप है कि मोकामा पुलिस ने लापरवाही की. उधर, घटना की सूचना पर बाढ़ एएसपी अम्बरीश राहुल ने गांव में पहुंचकर स्थिति का जायजा लिया. नीतीश और महेश को देर रात तक पुलिस गिरफ्तार नहीं कर सकीं. ग्रामीण एसपी कांतेश मिश्रा ने बताया कि गोलीबारी में महेश यादव के बेटे और सागर यादव की मौत हो गई है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें