सड़क दुर्घटना में घायलों को अस्पताल पहुंचाने पर मिलेगी आर्थिक सहायता, बिहार मॉडल पूरे देश में होगा लागू

Nawab Ali, Last updated: Sat, 9th Oct 2021, 6:46 AM IST
  • सड़क दुर्घटना में घायलों को अस्पताल पहुंचाने पर बिहार देश का पहला ऐसा राज्य बन गया है जो आर्थिक मदद देता है. अब केंद्रीय सड़क एवं राजमार्ग परिवहन ने आदेश जारी किया है कि सड़क दुर्घटना में घायलों को अस्पताल पहुंचाने पर आर्थिक सहायता दी जाये.
सड़क दुर्घटना में घायलों को अस्पताल पहुंचाने पर राज्य सरकारें देंगी आर्थिक सहायता. प्रतीकात्मक फोटो

पटना. केंद्रीय सड़क एवं राजमार्ग परिवहन मंत्रालय ने आदेश जारी किया है कि अगर कोई सड़क दुर्घटना में घायल हो जाता है तो उसे अस्पताल पहुंचाने वाले को नकदी सहायता दी जाये. लेकिन बिहार में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की सरकार यह आदेश साल 2018 में ही लागू कर चुकी है. बिहार ऐसा पहला राज्य है जिसने सड़क दुर्घटना में घायल को अस्पताल पहुंचाने के लिए नकदी देने का निर्णय लिया था. अब केंद्रीय मंत्रालय की और से आदेश के बाद सभी राज्य इसे 15 अक्टूबर से लागू करेंगे. घटना के एक घंटे के अंदरही घायल को अस्पताल पहुंचाना पड़ेगा ताकि जान बाख सकें.

आपने अक्सर देखा होगा कि कई बार सड़क दुर्घटना में में लोग घायल हो जाते हैं लेकिन कोई भी घायलों को अस्पताल ले जाने में हिचकता है जिस कारण कई बार घायल शख्स की मौत भी हो जाती है. सहायता करने पर मन में डर होता है कि अस्पताल पहुंचाने के बाद पुलिस उससे पूछताछ करेगी और गवाह भी बना सकती है. लेकिन अब केन्द्रीय सड़क एवं राजमार्ग परिवहन मंत्रालय न आदेश जारी किया है कि सड़क दुघटना में घायल को अस्पताल पहुंचाने पर नकद सहायता दी जाए. अगर कोई भी एक घंटे के अंदर घायल व्यक्ति को अस्पताल पहुंचाता है तो उसे 5 हजार रूपये की सहायता दी जाये. 

तेजप्रताप ने RJD के खिलाफ मोर्चा खोला, बोले- बिहार की महिलाएं माफ नहीं करेंगी

बिहार की बात की जाए तो परिवहन विभाग अब तक 500 से अधिक लोगों को सम्मानित कर चुका है. विभाग सहायता करने वाले लोगों को स्वतंत्रता या गणतंत्र दिवस पर सम्मानित कर चूका है. 2018 में इस नियम के लागू होने के पहले ही साल में 70 लोगों को पुरुस्कृत किया गया था. बिहार में सड़क दुर्घटना होने पर समय से अस्पताल न पहुंचने के कारण सबदे अधिक मौतें होती हैं. आंकड़ों के मुआताबिक दुर्घटना में घायल होने के बाद 72 फीसदी लोगों की मौत हो जाती है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें