कुशवाहा की CM नीतीश से मुलाकात, रालोसपा का JDU में हो सकता है विलय

Smart News Team, Last updated: Mon, 1st Feb 2021, 12:12 AM IST
  • उपेन्द्र कुशवाहा की पार्टी रालोसपा (RLSP) का जल्द ही जदयू (JDU) में विलय होगा. इसकी जानकारी रविवार की शाम सीएम नीतीश कुमार के साथ उपेन्द्र कुशवाहा की आधे घंटे से अधिक की हुई मुलाकात के बाद हुई है
कुशवाहा की CM नीतीश से मुलाकात, रालोसपा का JDU में हो सकता है विलय

पटना: बिहार की राजनीतिक एकबार फिर बहुत बड़ा उलटफेर होने वाला है जब उपेन्द्र कुशवाहा की पार्टी रालोसपा (RLSP) का जल्द ही जदयू (JDU) में विलय होगा. इसकी जानकारी रविवार की शाम सीएम नीतीश कुमार के साथ उपेन्द्र कुशवाहा की आधे घंटे से अधिक की हुई मुलाकात के बाद हुई है. बिहार विधानसभा के चुनाव नतीजों के बाद CM नीतीश कुमार से RLSP उपेन्द्र कुशवाहा की यह तीसरी मुलाकात थी. मुलाकात के दौरान मौजूद रहे JDU के वरिष्ठ नेता व पूर्व प्रदेश अध्यक्ष बशिष्ठ नारायण सिंह और खुद उपेन्द्र कुशवाहा ने भी JDU में RLSP के शीघ्र विलय के संकेत दिए. 

उपेन्द्र कुशवाहा की जदयू में वापसी होती है तो इससे दोनों पार्टियों को फायदा होगा और दोनों पार्टियां मजबूत होंगी अभी ये कहना मुश्किल है. जानकारी के मुताबिक विलय को लेकर पिछले एक महीने से उपेन्द्र कुशवाहा की जानता दल यूनाइटेड के शीर्ष नेताओं के साथ बातचीत चल रही है. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से उनकी हुई दुसरे दौर के मुलाकात के बाद उपेन्द्र कुशवाहा से आगे की बातचीत के लिए जदयू की ओर से बशिष्ठ नारायण सिंह को यह जिम्मेदारी दी गई थी. बशिष्ठ नारायण सिंह और उपेन्द्र कुशवाहा में कई दौर के बातचीत के बाद अंतत: रविवार की शाम दोनों इकट्ठे एक अणे मार्ग पहुंचे. 

दिल्ली नगर निगम चुनाव में उतरने की तैयारी में नीतीश की जेडीयू, BJP की चिंता बढ़ी

करीब चालीस मिनट तक मुख्यमंत्री नितीश कुमार से उपेन्द्र कुशवाहा की बातचीत हुई. बैठक से बाहर निकलने के बाद मीडिया से बातचीत में उपेन्द्र कुशवाहा ने कहा कि नीतीश जी और मैं कभी भी अलग-अलग नहीं थे. नीतीश कुमार से उनके व्यक्तिगत संबंध हैं. यह संबंध आज का नहीं है. नीतीश कुमार पहले भी उनके बड़े भाई थे और आज भी हैं. हां, भले ही वे राजनीतिक रूप से अलग थे. हालांकि रालोसपा का कब जदयू में विलय होगा, इस सवाल को वे टाल गए कहा-आगे क्या होगा, फिलहाल हम क्या बोलें? इतना कहकर वो चले गए.

पटना: थाने से शराब छुड़वाने के मामले में पुलिस ने दलाल को किया गिरफ्तार

उधर JDU के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष बशिष्ठ नारायण सिंह ने नीतीश कुमार से उपेन्द्र कुशवाहा की मुलाकात को लेकर कहा कि यह स्वाभाविक मिलन है. बहुत ही पारिवारिक होकर अच्छे माहौल में बातचीत हुई. कहा कि उपेन्द्र कुशवाहा के JDU में आने से लव-कुश ही नहीं सर्वसमाज में जदयू की ताकत बढ़ेगी. हमलोग लम्बे समय तक एकसाथ रहे हैं. वे कभी भी हमसे दूर नहीं रहे . जदयू की ओर से विपक्ष के नेता रहे हैं. राजनीति में मतभेद होता है, व्यक्ति अलग-अलग जगह पकड़ लेता है. 

शराबबंदी में तस्करी कर रहीं महिलाएं, पटना में युवती की स्कूटी से 18 बोतल बरामद

लेकिन अपने घर में उसके लिए जगह होती है. उपेन्द्र कुशवाहा के लिए भी स्वाभाविक होगा कि वे जदयू में आएं. यह बिहार की राजनीति के लिए भी अच्छा होगा. हालांकि विलय के लिए शर्त के सवाल को टालते हुए बशिष्ठ नारायण सिंह ने कहा कि उपेन्द्र क्यों शर्त रखेंगे? रालोसपा का जदयू में मिलन कब होगा, इस सवाल पर बशिष्ठ नारायण सिंह ने कहा कि बहुत जल्द अच्छी खबर आएगी.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें