बिहार में बनारस का बदला, मुकेश सहनी की VIP के MLA का NDA मीटिंग का बॉयकॉट

Smart News Team, Last updated: Mon, 26th Jul 2021, 4:23 PM IST
  • बिहार की एनडीए सरकार की बैठक में वीआईपी के चीफ समेत विधायकों ने बैठक में हिस्सा नहीं लिया. मुकेश सहनी ने सोमवार को होने वाली एनडीए बैठक को बॉयकॉट किया है. 
वीआईपी ने एनडीए बैठक का बॉयकॉट किया.

पटना. विकासशील इंसान पार्टी के विधायक सोमवार को होने वाली एनडीए बैठक में शामिल नहीं हुए. वीआईपी ने एनडीए बैठक का बॉयकॉट किया है. इसी के साथ वीआईपी चीफ मुकेश सहनी ने शाम 4.30 बजे अपने पटना स्थित मंत्री आवास पर प्रेस कांफ्रेंस बुलाई है. बिहार के पशुपालन मंत्री मुकेश सहनी ने एनडीए गठबंधन को लेकर खुलकर अपनी नाराजगी जाहिर की है. मुकेश सहनी का कहना है कि हर किसी की आवाज को सुनना चाहिए. हर किसी को अपने विचार कहने का मौका दिया जाना चाहिए.

वीआईपी की विधायक दल की नेता स्वर्णा सिंह का कहना है कि हम एनडीए की बैठक में शामिल हुए हैं. सोमवार को हमने सिर्फ अपने विधायकों यानी वीआईपी के एमएलए के साथ मीटिंग की है. इसी के साथ स्वर्णा सिंह ने कहा कि पार्टी के अध्यक्ष जो भी फैसला लेंगे, हम उस पर आगे बढ़ेंगे. राजनीतिक गलियारों में ऐसी चर्चा भी उठने लगी है कि वीआईपी आज अपनी बुलाई प्रेस कांफ्रेंस में बड़ा फैसला ले सकती है.

बिहार में मानसून सत्र के पहले दिन की कार्यवाही के बाद विधानसभा के सेंट्रल हॉल में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की अध्यक्षता में एनडीए विधानमंडल दल की बैठक रखी गई थी. इस बैठक में वीआईपी चीफ मुकेश सहनी और उनकी पार्टी का कोई भी विधायक शामिल नहीं हुआ. मुकेश सहनी ने बैठक में शामिल ना होने को लेकर कहा ऐसी बैठक में जाने का कोई लाभ नहीं है. जहां एनडीए के घटक दलों को अपनी बात रखने का मौका ना मिले. गठबंधन में शामिल सभी पार्टियों को सम्मान मिलना चाहिए लेकिन ऐसा हो नहीं रहा है. 

बिहार विधानसभा के मानसून सत्र में काला मास्क और हेलमेट पहनकर पहुंचे राजद विधायक 

वाराणसी में जो व्यवहार यूपी सरकार द्वारा मुकेश सहनी के साथ किया गया उसका रिएक्शन बिहार में देखने को मिल ररहा है. बता दें कि फूलन देवी की मूर्ति स्थापना को लेकर मुकेश सहनी 25 जुलाई को वाराणसी गए थे लेकिन उन्हें एयरपोर्ट से ही बाहर नहीं आने दिया गया और कलकत्ता भेज दिया गया था. 

पूर्व CM और HAM अध्यक्ष मांझी ने फूलन देवी की प्रतिमा जब्त करने की निंदा की 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें