पुलिस मुखबिरी के शक में छोटे भाई ने बड़े भाई को गोलियों से किया छलनी, हालत नाजुक

Uttam Kumar, Last updated: Tue, 14th Sep 2021, 11:44 AM IST
  • रविवार रात पाटलीपुत्र कॉलोनी में  एग्रीकल्चर पार्ट्स के व्यवसायी आनंद सिंह उर्फ डब्बू सिंह को गोली मारी गई थी. पुलिस छानबीन में इस घटना को अंजाम देने के पीछे डब्बू सिंह के सगे भाई शेखर सिंह के होने की जानकारी मिली है. पाटलीपुत्र पुलिस मुख्य आरोपित शेखर सहित तीन अन्य लोगों के खिलाफ केस दर्ज कर गिरफ़्तारी के लिए छापेमारी कर रही है. 
सगे भाई ने पुलिस मुखबरी के शक में बड़े भाई को मारी गोली (प्रतिकात्मक फोटो )

पटना.  रविवार पाटलीपुत्र में एग्रीकल्चर पार्ट्स के व्यवसायी आनंद सिंह उर्फ डब्बू सिंह को गोली मारने में उनके सगे भाई का नाम सामने आ रहा है. रविवार रात साढ़े 11 बजे पाटलीपुत्र कॉलोनी हाउस नंबर 155 के समीप डब्बू को गोली मारी गई थी. गोली डब्बू के सीने में लगी थी. फिलहाल डब्बू सिंह का इलाज चल रहा है लेकिन हालत बहुत नाजुक है. पुलिस छानबीन में इस घटना को अंजाम देने के पीछे डब्बू सिंह के सगे भाई शेखर सिंह के होने की जानकारी मिली है. पाटलीपुत्र पुलिस ने मुख्य आरोपित शेखर सहित तीन अन्य लोगों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है. 

अभी तक की छानबीन में पुलिस को इस बात की जानकारी मिली है कि मुख्य आरोपित शेखर की पत्नी प्रियंवदा को इसी साल अगस्त में रूपसपुर थाने की पुलिस ने जालसाजी के आरोप में धनबाद से गिरफ्तार किया था. पुलिस के अनुसार मुख्य आरोपित शेखर और उसकी पत्नी प्रियंवदा पर एक जमीन बेचने के नाम पर फर्जी एग्रीमेंट दिखाकर करीब 80 लाख की ठगी करने का आरोप है. इस मामले में शेखर पर भी रूपसपुर थाने में एफआईआर दर्ज है. पत्नी की गिरफ़्तारी के बाद आरोपित शेखर को शक था कि उसकी पत्नी के धनबाद में होने की खबर डब्बू ने ही पुलिस को दी थी. 

पटना में बेखौफ बदमाश, देर रात घर से बाहर बुलाकर कृषि कारोबारी को मारी गोली

इसी बात का बदला लेने के लिए छोटे भाई ने अपने सगे बड़े भाई की हत्या की साजिश रची. शेखर देर रात साढ़े 11 बजे हथियार से लैस होकर डब्बू के घर पहुंचा. डब्बू के घर के दरवाजे के सामने उसने जोर – जोर से चिल्लाना लगा. आवाज सुनकर डब्बू की पत्नी घर के नीचे आयीं. उन्होंने अपने पति डब्बू के सोने की बात कही. लेकिन शोर – शराबा के कारण डब्बू की नींद खुल गई. आवाज सुनकर पीड़ित डब्बू अपने एक भांजे के साथ भाई को समझाने नीचे आये.

 डब्बू को देखते ही शेखर ने दो गोलियां दागी दी. एक सीधे डब्बू के सीने में लगी. दूसरी गोली चलाते वक्त भांजे ने शेखर की हाथ पकड़ा जिससे पिस्टल दूसरी ओर घूम गया. घटना को अंजाम देने के बाद शेखर और उसके साथ कार से आये अन्य तीन लोग भाग निकले. पाटलीपुत्र पुलिस स्टेसन के  थानेदार के अनुसार कि इस घटना को अंजाम देने के लिए 7.62 बोर के पिस्टल से गोलियां दागी गई थी. पुलिस आरोपित की तलाश में अलग – अलग जगहों पर छापेमारी कर रही है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें