पटना

पटना में प्रदूषण, सूखे पेड़, गंदे नाले और कूड़े के बीच विश्व पर्यावरण दिवस

Smart News Team, Last updated: 05/06/2020 04:00 PM IST

  • विश्व पर्यावरण दिवस के मौके पर पटना की कुछ फोटो जो बताता है कि हम प्रकृति को लेकर कितने संजीदा हैं। अरुण अभि और अभिषेक कुमार की फोटो रिपोर्ट।
विश्व पर्यावरण दिवस से एक दिन पहले पटना के बुद्ध मार्ग की ये तस्वीर बताती है कि ये एक डंपिंग यार्ड है जहां कूड़ा फेंकने और जमा करने की आजादी है।
1/5 विश्व पर्यावरण दिवस से एक दिन पहले पटना के बुद्ध मार्ग की ये तस्वीर बताती है कि ये एक डंपिंग यार्ड है जहां कूड़ा फेंकने और जमा करने की आजादी है।
पटना की कई सड़कों के किनारे पेड़ सूखे हैं लेकिन उन्हें हटाने वाला भले कोई ना हो लेकिन उस पर तार टांगने वाले हैं।
2/5 पटना की कई सड़कों के किनारे पेड़ सूखे हैं लेकिन उन्हें हटाने वाला भले कोई ना हो लेकिन उस पर तार टांगने वाले हैं।
ये तस्वीर चितकोहरा शिवपुरी मेन रोड पर मनोज कुमार के दवा दुकान की है। दुकान के रास्ते को पेड़ लगा कर हरा-भरा रखने वाले मनोज कहते है कि दुकान खोलते ही पहले इन पौधों को पानी देते और फिर बंद करने से पहले भी, इनका पौधा लोग चुराते रहते हैं लेकिन ये भी हार मानने वालों में नहीं हैं।
3/5 ये तस्वीर चितकोहरा शिवपुरी मेन रोड पर मनोज कुमार के दवा दुकान की है। दुकान के रास्ते को पेड़ लगा कर हरा-भरा रखने वाले मनोज कहते है कि दुकान खोलते ही पहले इन पौधों को पानी देते और फिर बंद करने से पहले भी, इनका पौधा लोग चुराते रहते हैं लेकिन ये भी हार मानने वालों में नहीं हैं।
ये तस्वीर भी बुद्ध मार्ग पर अघोषित कूड़ाघर की है।
4/5 ये तस्वीर भी बुद्ध मार्ग पर अघोषित कूड़ाघर की है।
सुनियोजित शहरों में कूड़ा का डंपिंग यार्ड आबादी से दूर बनाया जाता है लेकिन यहां तो पटना के बीच में बुद्ध मार्ग पर कुड़ा का अंबार लगा दिया गया है।
5/5 सुनियोजित शहरों में कूड़ा का डंपिंग यार्ड आबादी से दूर बनाया जाता है लेकिन यहां तो पटना के बीच में बुद्ध मार्ग पर कुड़ा का अंबार लगा दिया गया है।