अक्षय नवमी पर आज करें आंवले के वृक्ष की पूजा, लक्ष्मीनारायण की कृपा से मिलेगी सुख-समृद्धि

Pallawi Kumari, Last updated: Fri, 12th Nov 2021, 5:56 AM IST
  • आज 12 नवंबर को अक्षय नवमी या आंवला नवमी का त्योहार मनाया जाएगा. इस दिन आंवला के पेड़ की पूजा करने का विधान है. अक्षय नवमी के दिन आंवला वृक्ष की पूजा करने से लक्ष्मीनारायण के साथ ही भगवान शिव का भी आशीर्वाद मिलता है.
आज अक्षय नवमी पर होगी आंवले के वृक्ष की पूजा.

हर साल कार्तिक मास की शुल्क पक्ष के नवमी की आंवला पर्व यानी अक्षय नवमी मनाया जाता है. इस दिन आवंला वृक्ष की पूजा करने का विधान है. मान्यता है कि अक्षय नवमी पर आंवला वृक्ष की पूजा करने से सौभाग्य, आरोग्य और सुख समृद्धि में वृद्धि होती है. इस बार अक्षय नवमी का त्योहार शुक्रवार 12 नवंबर को मनाया जाएगा. आइये जानते हैं आज कैसे करें आंवला वृक्ष की पूजा और क्या है पूजा का शुभ मुहूर्त.

आंवला नवमी पूजा विधि- कहा जाता है कि आंवले के पेड़ पर भगवान विष्णु का वास होता है इसलिए उन्हें आंवला पेड़ प्रिय होता है. अक्षय नवमी के दिन आंवला पेड़ के पास  दीपक जलाकर परिक्रमा करें और रक्षा सूत्र बांधे. इस दिन दान-पुण्य का भी महत्व होता है. आंवला पेड़ पर हल्दी, कुमकुम आदि से पूजा करने के बाद जल और कच्चा दूध वृक्ष पर अर्पित करें. फिर आंवले के पेड़ के तने में कच्चा सूत या मौली को आठ बार लपेटते हुए परिक्रमा करें. पूजा के बाद व्रत कथा पढ़ें.

Tulsi Vivah 2021: इस दिन होगा तुलसी विवाह, नोट कर लें डेट और मुहूर्त, पूजा में रखें इन बातों का ध्यान

आंवला नवमी पूजा मुहूर्त- आंवला नवमी के व्रत ऱकने वालों को पूजा के लिए 05 घंटे 24 मिनट का समय मिलेगा. आप 12 नवंबर को प्रात: 06 बजकर 41 मिनट से दोपहर 12 बजकर 05 मिनट के मध्य तक आंवला नवमी की पूजा कर सकते हैं.

नवमी तिथि प्रारंभ

12 नवंबर को सुबह 5 बजकर 51 मिनट से प्रारंभ, 13 नवंबर को सुबह 5 बजकर 30 मिनट तक

अक्षय नवमी पर राहुकाल का समय- आंवला नवमी के दिन राहुकाल सुबह 10 बजकर 44 मिनट से दोपहर 12 बजकर 05 मिनट तक है.

पूजा के साथ ही आंवला खाने में भी लाभकारी- विष्णु भगवान का प्रिय आंवला को संस्कृत में धात्तिफल कहा जाता है. वैज्ञानिक दृष्टिकोण से इसके कई लाभ बताए गए हैं. आंवला का सेवन करने से समस्त उदर रोग से निजात मिलती है.

Surya Grahan 2021: दिसंबर में लगेगा साल का आखिरी सूर्य ग्रहण, इस कारण सूतक के प्रभाव से मिलेगा छुटकारा

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें