Chhath Puja 2021: छठ पूजा संध्या अर्घ्य आज, बिहार के पटना, मुजफ्फरपुर, गया समेत इन शहरों में सूर्यास्त का टाइम

Pallawi Kumari, Last updated: Wed, 10th Nov 2021, 11:30 AM IST
  • महापर्व छठ की धूम धाम और रौनक देशभर में देखने को मिल रही है. चार दिवसीय छठ का आज तीसरा दिन है. आज छठ घाट पर पहुंचकर व्रती डूबते सूर्य को अर्घ्य देगी. आइये जानते हैं आज शाम बिहार के पटना और मुजफ्फरपुर समेत अलग-अलग शहरों में कितने बजे सूर्यास्त होगा.
बिहार के अलग अलग शहरों में सूर्यास्त का समय.

लोकआस्था का महापर्व छठ पूजा खासतौर पर बिहार, झारखंड और उत्तरी प्रदेश में मनाया जाता है. लेकिन अब यह पर्व देशभर में प्रचलित हो गया है. देश विदेश में लोग छठी मईया के गीत गाकर इस पर्व को मनाने लगे हैं. लेकिन बात करें तो बिहार की तो, बिहार में छठ पर्व को लेकर अलग ही रौनक देखने को मिलती है. छठ पूजा में बिहार से बाहर देश विदेश में काम कर रहे लोग भी घर पहुंचते हैं और छठी मईया का आशीर्वाद लेते हैं. चार दिनों तक चलने वाले इस छठ पर्व का आज तीसरा दिन है. आज सूर्य देव को पहला अर्घ्य यानी संध्या अर्घ्य दिया जाता है.

छठ पूजा के तीसरे दिन डूबते हुए सूर्य को अर्घ्य देने की परंपरा है. दिन भर पूजा की सारी तैयारी करने के बाद व्रती परिवार के लोगों के साथ नदी घाट पर पहुंची है और डूबते हुए सूर्य को अर्घ्य देकर छठी मईया की उपासना करती है. ऐसे में जरूरी है कि आप सही समय पर घाट पहुंचे और सूर्य देव को संध्या अर्घ्य दे सकें.  इसलिए ये जानना जरूरी है कि आपके शहर में आज कितने बजे सूर्यास्त होगा.

Chhath Puja 2021: संध्या अर्घ्य के दिन सुने ये लोक गीत, छठी मईया के गानों के साथ पहुंचे छठ घाट

आइये जानते हैं बिहार के अलग अलग शहरों में आज 10 नवंबर को सूर्यास्त का समय-

पटना- सूर्यास्त (10 नवंबर)- 05:03 पीएम

मुजफ्फरपुर सूर्यास्त (10 नवंबर)- 5:01 पीएम

भागलपुर- सूर्यास्त (10 नवंबर)-4:56 पीएम

 गया- सूर्यास्त (10 नवंबर)- 5:05 पीएम

 बेगूसराय- सूर्यास्त (10 नवंबर)- 4:59 पीएम

पूर्णिया- सूर्यास्त (10 नवंबर)- 4:53 पीएम

 मोतिहारी- सूर्यास्त (10 नवंबर)- 5:02 पीएम

बेतिया- सूर्यास्त (10 नवंबर)-5:04 पीएम

दरभंगा-सूर्यास्त (10 नवंबर)- 4:59 पीएम

 सहरसा-सूर्यास्त (10 नवंबर)- 4:57 पीए

किशनगंज-सूर्यास्त (10 नवंबर)- 4:51 पीएम

जहानाबाद- सूर्यास्त (10 नवंबर)- 5:04 पीएम

Chhath Puja 2021: अर्घ्य देने के लिए घाट तक दंडवत करती जाती है व्रती, जानें छठ में दंडवत प्रणाम का महत्व

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें