NRA: रेलवे और बैंकिंग की तैयारी करने वाले छात्र बदलें अपना सिलेबस, जानें क्यों

Smart News Team, Last updated: 22/08/2020 11:23 AM IST
 केंद्र सरकार ने नेशनल रिक्रूटमेंट एजेंसी बनाई है, जो केंद्रीय स्तर पर होने वाली सभी परीक्षाओं को एक बार आयोजित करेगी. इससे बिहार के छात्रों को रेलवे और बैंकिंग के क्षेत्र में काफी फायदा मिलेगा. उन्हें अपने सिलेबस में जरूरी बदलाव करने होंगे.
रेलवे और बैंकिग की तेैयारियां करने वाले छात्रों को अब एक ही परीक्षा देनी होगी. 

पटना. बिहार में बैंकिंग और रेलवे की तैयारी करने वाले छात्रों का अब सिलेबस बदल जाएगा. केंद्र सरकार द्वारा केंद्र के स्तर पर सभी सरकारी नौकरियों में भर्तीयों के लिए एक ही परीक्षा होगी. ये परीक्षा नेशनल रिक्रूटमेंट एजेंसी द्वारा करवाई जाएगी. एनआरए की तरफ से केंद्र सरकार की सभी नौकरियों के लिए एक कॉमन एलिजिबिलिटी टेस्ट होगा.

बिहार में बैंकिंग और रेलवे की तैयारी कराने वाली कोचिंग संस्थाओं को अब अपने सिलेबस में कुछ जरूरी संशोधन करने होंगे. तभी नेशनल रिक्रूटमेंट एजेंसी द्वारा आयोजित होने वाली परीक्षाओं का लाभ बिहार के छात्रों को मिल पाएगा. 

पटना: महिला सुरक्षा के लिए पब्लिक ट्रांसपोर्ट में लगेंगे इमरजेंसी बटन

इस नए बदलाव के संबंध में एसएससी परीक्षा की तैयारी कराने वाले अदम्या गुरुकुल संस्थान के निदेशक डॉ. एम रहमान बताते हैं कि यह बिहार के छात्रों के लिए वरदान साबित होगा. बशर्तें की समय पर परीक्षा होनी चाहिए. उन्होंने कहा कि इससे छात्रों की आर्थिक स्तर से लेकर मानसिक परेशानी दूर हो जाएगी. छात्र एक ही आवेदन से तीन परीक्षाओं में शामिल हो जाएंगे. इसके लिए संस्थानों को अपने सिलेबस में बदलाव करना होगा. 

विभिन्न जानकारों के मुताबिक, NRA द्वारा केन्द्र सरकार के अंतर्गत आने वाली सभी परीक्षाओं के लिए ये होंगे फायदे-

-अब अभ्यर्थियों को अलग-अलग परीक्षा देने से मुक्ति मिल जाएगी.

-अक्सर देखना को मिलता था कि परीक्षाओं की तारीख एक साथ आ जाने से अभ्यर्थी को उसी वक्त होने वाली दूसरी परीक्षा को छोड़ना पड़ता था, जो अब नहीं होगा.

-अभी तक परीक्षाओं का केंद्र अलग-अलग शहरों में पड़ता था, जिस कारण अभ्यर्थी को काफी परेशानी का सामना करना पड़ता था.अब हर जिला मुख्यालय में एक परीक्षा केंद्र होगा, जिससे छात्रों की परेशानी दूर होगी.

कोरोना काल में बिहार विधानसभा चुनाव नॉमिनेशन, प्रचार, रैली पर आयोग की गाइडलाइंस

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें