सावधानी से खरीदें मिठाई, राज्य की एकमात्र लैब पटना से 14 दिन बाद आती है रिपोर्ट

Smart News Team, Last updated: Mon, 9th Nov 2020, 2:08 PM IST
  • त्योहारी सीजन में मिलावटी मिठाइयों की बिक्री के चलते छापामारी अभियान चल रहा है लेकिन राज्य में एक ही लैब पटना में होने के कारण राज्य भर से जहां जांच के लिए सैंपल आते हैं. संसाधनों की कमी की चलते जांच रिपोर्ट आने में देरी हो जाती है और उसका फायदा मिलावट का धंधा करने वाले लोग उठा लेते हैं.
त्योहारी सीजन में मिठाई खरीदते समय लोग पूरी सावधानी बरतें

पटना. त्योहारी सीजन के मद्देनजर यदि आप मिठाइयां खरीदने जा रहे हैं तो सावधान हो जाएं. मिठाई खरीदते समय पूरी सावधानी बरतें क्योंकि इस सीजन में मिलावटी मिठाइयों को बेचकर अधिक लाभ कमाने वाले व्यापारी भी सक्रिय हो जाते हैं और लोगों की सेहत से खिलवाड़ करते हैं. हालांकि स्वास्थ्य विभाग अलर्ट पर है और छापामारी अभियान जारी है. इसे लेकर खुद लोगों को भी सतर्क रहना चाहिए क्योंकि राज्य में मिठाइयों समेत दूसरे खाद्य पदार्थों की जांच के लिए एक मात्र लैब पटना में है. इस लैब से रिपोर्ट आने में 14 दिन का समय लगता है लेकिन तब तक त्योहारी सीजन खत्म हो जाएगी और बहुत से लोग इसकी चपेट में आ चुके होंगे.

गौर हो कि पूरे राज्य से मिठाई, खोया, खाद्य तेल आदि के सैंपल जांच के लिए पटना की लैब में ही आते हैं, लेकिन संसाधनों की कमी के कारण यहां समय पर रिपोर्ट नहीं तैयार हो पाती है. जिसका फायदा मिलावटी मिठाइयों और खाद्य पदार्थों के विक्रेता उठा लेते हैं और बिक्री लगातार जारी रखते हैं. पटना में स्थित इस सरकारी लैब में राज्य भर से महीने में 500 से 700 सैंपल जांच के लिए आते हैं. दिवाली के सीजन में सैंपलों की संख्या दोगुनी हो जाती है. इतने काम होने के बावजूद लैब में मैन पावर के नाम पर कुल मिला कर छह तकनीशियन और अधिकारी हैं. इनके भरोसे ही लैब का सारा काम होता है.

पटना सर्राफा बाजार में सोना व चांदी में हुई 10 रुपये की बढ़त, आज का मंडी भाव

त्योहारी सीजन में हर वर्ष छापेमारी रूटीन प्रक्रिया के तहत होती है. लेकिन जब तक मिलावटी मिठाई या अन्य खाद्य पदार्थों की रिपोर्ट आएगी और उन पर फूड इंस्पेक्टर कार्रवाई करेंगे, तब तक ऐसी मिठाइयां पटना समेत राज्य भर के लोग जाने-अनजाने में खरीद कर खा चुके होंगे. लैब में जांच का तुरंत रिजल्ट देने वाली कोई मशीन भी उपलब्ध नहीं है. जिस कारण जांच प्रक्रिया में काफी समय लग जाता है और रिपोर्ट आने में देरी भी होती है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें