कुंडली में कमजोर है चंद्रमा तो काटने पड़ेंगे डॉक्टर के चक्कर, ऐसे करें चंद्र दोष दूर

Pallawi Kumari, Last updated: Wed, 5th Jan 2022, 11:49 AM IST
  • खराब लाइफस्टाइल और अनियमित खान-पान के कारण आज हर कोई बीमारी से ग्रसित है. जिस कारण उसे आए दिन डॉक्टर के पास चक्कर काटना पड़ता है. लेकिन क्या आप जानते हैं कि कुंडली में चंद्रमा की स्थिति खराब होने से स्वास्थ्य पर इसका बुरा प्रभाव पड़ता है. स्वस्थ रहने के लिए कुंडली में चंद्र दोष को दूर करना जरूरी है.
कुंडली में बैठा चंद्रमा तय करता है आपका स्वास्थ्य

व्यक्ति के जन्मकुंडली में मौजूद नौ ग्रह अलग अलग तरह से उसके जीवन को प्रभावित करते हैं. यदि कुंडली में ग्रह की स्थिति अच्छी रही तो जीवन में सफलता मिलती है और अगर ग्रहों की स्थिति खराब हुई को उसे नकारात्मक परिणाम भुगतने पड़ सकते हैं. ठीक इसी तरह अगर आपकी कुंडली में नौ ग्रहों में चंद्रमा की स्थिति कमजोर से हो आपको स्वास्थ समस्या बनी रहती है. मानसिक तनाव, बार बार तबियत बिगड़ना, लगातार अस्पताल या डॉक्टर के चक्कर लगाना सभी चंद्रमा की स्थिति कमजोर होने के कारण होती है. 

इसलिए जरूरी है कि कंडली में चंद्र की स्थिति को मजबूत रखा जाएगा. अगर आपके साथ भी ऐसा होता है तो आपको चंद्र दोष दूर करने की जरूरत है. आइये जानते हैं कैसे करें चंद्र दोष दूर.

खुशियां और तरक्की में बाधा डालते हैं ये 5 तरह के लोग, आज ही बना लें दूरी

करें ये उपाय-

1. अगर आपकी कुंडली में चंद्र दोष है तो भूल से भी दूध ये जुड़ा व्यापार न करें. दूध से बनी चीजों का दान करें लेकिन रात में दूध पीकर कभी न सोएं.

2.जिनकी कुंडली में चंद्रमा कमजोर होते हैं उन्हें पानी को बरबाद करने से बचना चाहिए. इसलिए जरूरत के बाद कभी भी बेकार पानी न बहाएं. अपने घर के खराब नल्कों को जल्द ठीक करवाएं.

3.चंद्रमा को मजबूत करने के लिए ‘ॐ नम: शिवाय’ के मंत्र का जाप करें. क्योंकि शिवजी ने चंद्रमा को अपने सिर पर धारण किया है. इसलिए अगर आप महादेव को प्रसन्न कर लेते हैं, तो चंद्रमा भी मजबूत हो जाएगा.

4.सोमवार को सफेद वस्त्र पहनें. इस दिन नमक का सेवन न करें. चंद्र मंत्र ‘ॐ श्रां श्रीं श्रौं स: चंद्राय नम:’का नियमित जाप करें.

5.वास्तु के अनुसार सफेद और स्लेटी रंगों को चंद्रमा का प्रतीक माना जाता है. इसके अलावा चमकीला नीला, हरा और गुलाबी रंग, आसमानी रंग भी लाभदायक हैं. जिन लोगों का चंद्रमा कमजोर होता है उन्हें काले और लाल रंग से परहेज रखना चाहिए.

Makar Sankranti 2022: खिचड़ी के बिना अधूरा है मकर संक्रांति पर्व, जानें इसका महत्व

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें