पटना: महापर्व छठ पूजा का तीसरा दिन, डूबते सूर्य को पहला अर्घ्य आज, जानें मुहूर्त

Smart News Team, Last updated: 20/11/2020 08:59 AM IST
  • महापर्व छठ पूजा का आज तीसरा दिन है. आज इस पर्व का मुख्य दिन है. आज के दिन व्रतधारी महिलाएं शाम को डूबते सूर्य को अर्घ्य देंगी. 
वाराणसी के घाटों पर पुलिस का एनाउंसमेंट- यहां नहीं घर में करें छठ पूजा

पटना. लोक आस्था का महापर्व छठ की शुरुआत बुधवार से नहाय-खाय के साथ शुरू हो चुका है. चार दिवसीय छठ महापर्व का आज तीसरा दिन है. आज इस पर्व का मुख्य दिन है. आज के दिन व्रतधारी महिलाएं शाम को डूबते सूर्य को अर्घ्य देंगी. वहीं कल उगते हुए सूर्य को अर्घ्य दिया जाएगा. अर्घ्य देते समय दूध और गंगा जल का इस्तेमाल किया जाता है.

आज के दिन अर्घ्य देने से पहले बांस की टोकरी में फलों, ठेकुआ, चावल के लड्डू और पूजा के सामानों से सजाया जाता है. आज सूर्यास्त से कुछ समय पहले व्रती सूर्य देव की पूजा करेंगी और फिर डूबते हुए सूर्य देव को अर्घ्य देने के बाद पांच बार परिक्रमा करेंगी. मान्यता है कि डूबते हुए सूर्य देव को अर्घ्य देने से जीवन में परेशानियों से निजात मिल सकती है. इसको लेकर वैज्ञानिक दृष्टिकोण भी है उसके अनुसार डूबते हुए सूर्य को अर्घ्य देने से व्रती के आंखों की रोशनी बढ़ती है.

पटना: खरना व्रत पर छठी मैया को लगाया जा रहा दूध से बने रसिया का भोग

डूबते हुए सूर्य देव को अर्घ्य देकर व्रती महिलाएं छठ माता से अपने संतान की लंबी आयु और सुख समृध्दि की कामना करती है. 20 नवंबर 2020 को सूर्यास्त का समय 4:59 pm है. वहीं 21 नवंबर 2020 को उगते हुए सूर्य को अर्घ्य देने का समय 6:11 am पर है.

पटना: दूसरा अर्घ्य खत्म होने तक घाटों के नजदीकी सरकारी व निजी अस्पतालों को अलर्ट

बुधवार को छठ पूजा का दूसरा दिन था. इस दिन को खरना कहा जाता है. खरना के दिन गंगा घाटों पर श्रद्धालुओं ने आस्‍था की डुबकी लगाई तथा प्रसाद बनाने के लिए गंगा जल घर ले गए थे. बुधवार को छठ व्रतियों ने पूजा कर कद्दू-भात का भोग लगाया तथा प्रसाद ग्रहण किया. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें