Chhath Puja 2021: आज डूबते सूर्य को दिया जाएगा अर्घ्य, क्या है संध्या अर्घ्य का महत्व, समय और पूजा विधि

Pallawi Kumari, Last updated: Wed, 10th Nov 2021, 6:02 AM IST
  • छठ पूजा के तीसरे दिन संध्या अर्घ्य यानी डूबते सूर्य को अर्घ्य देने की परंपरा है. आज 10 नवंबर को पहला अर्घ्य दिया जाएगा और 11 नवंबर को उगते सूर्य को अर्घ्य देने के बाद छठ पूजा का समापन होगा. आइये जानते हैं संघ्या अर्घ्य का महत्व, पूजा विधि और मुहूर्त.
आज डूबते सूर्य को दिया जाएगा संध्या अर्घ्य.

लोक आस्था का त्योहार छठ पूजा दिवाली के छह दिन बाद और कार्तिक मास की शुक्ल पक्ष की षष्ठी तिथि को मनाया जाता है. आज 10 नवंबर और हिंदू कैलेंडर के मुताबिक कार्तिक षष्ठी को सूर्य देव को अर्घ्य दिया जाएगा. आज डूबते सूर्य को अर्घ्य देकर उपासना की जाती है, हिंदू धर्म में छठ अकेला ऐसा पर्व है, जिसमें उगते सूर्य के साथ ही डूबते सूर्य को भी अर्घ्य दिया जाता है. बीते दिन खरना पूजा के बाद 36 घंटे का निर्जला व्रत रखने के बाद आज छठ घाट जाकर सूर्य देव को संघ्या अर्घ्य दिया जाएगा. इसके बाद 11 नवंबर को उगते सूर्य को भोर का अर्घ्य देने के बाद छठ पूजा का समापन हो जाएगा. आइये जानते हैं, छठ पूजा में क्या है संध्या अर्घ्य का महत्व, कैसे और किस मुहूर्त पर करे संध्या अर्घ्य की पूजा.

संघ्या अर्घ्य का महत्व- छठ पूजा के दौरान सूर्य देव के साथ उनकी पत्नी उषा और प्रत्यूषा की भी उपासना की जाती है सूर्य देव की दो पत्नियां उषा और प्रत्यूषा है. प्रात:काल में सूर्य की प्रथम किरण ऊषा तथा सायंकाल में सूर्य की अंतिम किरण प्रत्यूषा को अर्घ्य देकर उनकी उपासना की जाती है. संघ्या के समय सूर्य अपनी पत्नी प्रत्यूषा के साथ रहते हैं. इसीलिए प्रत्यूषा को अर्घ्य देने की परंपरा है. कहा जाता है कि शाम के समय सूर्य की आराधना से जीवन में संपन्नता आती है.

Chhath Puja 2021: सिर्फ छठ पर ही नहीं बल्कि रोजाना सूर्य को अर्घ्य देने के हैं कई फायदे

संध्या अर्घ्य पूजा विधि- नदी घाट में उतरकर सूर्य को जल एवं दूध चढ़ाकर प्रसाद से भरे सूप से छठी मैया की पूजा भी की जाती है. शाम को बांस की टोकरी में ठेकुआ, चावल के लड्डू और कुछ फल रखें जाते हैं और पूजा का सूप सजाया जाता है और तब सूर्य को अर्घ्य दिया जाता है. अर्घ्य देते समय इस मंत्र का उच्चारण भी किया जाता है.

ऊं एहि सूर्य सहस्त्रांशों तेजोराशे जगत्पते।

अनुकम्पया मां भवत्या गृहाणार्ध्य नमोअस्तुते॥

संध्या अर्घ्य का समय- 10 नवंबर (संध्या अर्घ्य) सूर्यास्त का समय : शाम 05:30 बजे है. हालांकि अलग अलग शहरों में सूर्यास्त के समय में थोड़ा बहुत अंतर हो सकता है.

Chhath Puja 2021: छठ पूजा के दूसरे दिन 9 नवंबर को खरना, जानें शुभ-अशुभ मुहूर्त

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें