बिहार में व्यापारी लगाएं उद्योग, खोलें कंपनियां, सरकार मदद करेगी: नीतीश कुमार

Smart News Team, Last updated: 03/06/2020 02:53 PM IST
  • बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने आठ जिलों के 16 क्वारंटाइन केंद्रों पर रखे गए दूसरे राज्यों से लौटे प्रवासी मजदूरों से की बात की और वहां उपलब्ध सुविधाओं का जायजा लिया।
बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने प्रवासी मजदूरों की वापसी के बाद राज्य में रोजगार पैदा करने की दिशा में पहल शुरू कर दी है

पटना। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा है कि बिहार के व्यवसायी अपने राज्य में नये-नये उद्योग लगाएं। सरकार इसके लिए उन्हें हरसंभव मदद करेगी। उद्योग लगने से बाजार का और विकास होगा। इससे लोगों की आय भी बढ़ेगी। मुख्यमंत्री ने कहा है कि हम उपभोक्ता राज्य हैं। हमारे पास बहुत बड़ा बाजार है। बाजार की जरुरतों के अनुरुप उद्योग लगाने के लिए लोगों को प्रेरित करें। मुख्यमंत्री ने लगातार तीसरे दिन रविवार को वीडियो कांफ्रेंसिंग से आठ जिलों के 16 क्वारंटाइन केन्द्रों पर रह रहे लोगों से बात की। केन्द्रों पर शौचालय, पेयजल, रसोईघर, साफ-सफाई का जायजा लिया और प्रवासियों से इस संबंध में जानकारी ली।

मुख्यमंत्री ने इस दौरान कहा कि बिहार में कपड़ा, जूता, बैग, फर्नीचर, साइकिल आदि से जुड़े उद्योगों की असीम संभावनाएं हैं। भागलपुर एवं मुंगेर में कपड़ा उद्योग खासकर सिल्क उद्योग की अपार संभावनाएं हैं। भागलपुर का सिल्क दुनिया भर में प्रसिद्घ है। पहले यहां से सिल्क का निर्यात किया जाता था। 

उन्होंने पदाधिकारियों को निर्देश दिया कि भागलपुर के इस उद्योग की क्षमता की पहचान कर आगे की कार्रवाई करें। मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिया कि क्वारंटाइन केन्द्रों पर आवासित सभी प्रवासियों के सर्वे का कार्य पूर्ण कराएं। कौन कहां से आए हैं? क्या रोजगार करते थे? उनको यहां कैसे रोजगार उपलब्ध कराया जाए, ताकि उन्हें बाहर नहीं जाना पड़बाहर की कंपनियों ने प्रवासी श्रमिकों का ख्याल नहीं रखा

मुख्यमंत्री ने प्रवासी श्रमिकों से बातचीत के क्रम में कहा कि बिहार के बाहर की निजी कंपनियों ने आपका ख्याल नहीं रखा, जबकि यह उनका दायित्व था। आपलोगों को बाहर काफी कष्ट हुआ है। आपलोग बाहर जाकर वहां के विकास में कितना सहयोग देते हैं, लेकिन जैसा कि आप सभी ने बताया कि आप लोगों के साथ कंपनियों ने इस विषम परिस्थिति में अच्छा व्यवहार नहीं किया। हम लोग ऐसी व्यवस्था कर रहे हैं कि बिहार में ही रहकर आपलोग सम्मान के साथ अपनी आजीविका चला सकें। हमारी इच्छा है कि सभी को यहीं रोजगार मिले, किसी को अकारण बाहर नहीं जाना पड़े। 

उन्होंने कहा कि बिहार में बहुत काम है, यहीं रहिए और काम कीजिए। सभी को उनके स्किल के अनुरुप काम मिलेगा। बिहार में कोई भूख से नहीं मरता है। हम सबके रोजगार की यहीं व्यवस्था करेंगे, इससे बिहार का और विकास होगा। सभी लोग बिहार के विकास में भागीदार बनें।े।

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें