पटना: सप्ताह में दर्जन से अधिक रेलकर्मियों को कोरोना, स्टेशनों पर बढ़ा खतरा

Smart News Team, Last updated: 09/12/2020 03:01 PM IST
  • रेलकर्मियों में एक बार फिर संक्रमण तेजी से फैलना शुरू हो गया है. जिसके पीछे कारण दानापुर मंडल के स्टेशनों पर कोरोना गाइडलाइन का सख्ती से फॉलो ना होना पाया जा रहा है लेकिन रेलवे के जन संपर्क अधिकारी का कहना है सभी स्टेशनों पर यात्रियों की जांच के पूरे प्रबंध हैं.
पटना जंक्शन (फ़ाइल फ़ोटो)

पटना. कोरोना के मामले बढ़ने का सिलसिला दिसंबर माह में फिर से शुरू हो गया है. दानापुर मंडल के विभिन्न स्टेशनों पर कार्यरत रेलकर्मियों में पिछले एक सप्ताह से दर्जन से अधिक कर्मचारी कोरोना संक्रमित पाए गए हैं. इनमें ज्यादातर कर्मचारी पटना जंक्शन, गुलजारबाग, राजेन्द्र नगर टर्मिनल व दानापुर स्टेशन पर तैनात हैं. जिस कारण दानापुर मंडल के विभिन्न स्टेशनों पर कार्यरत रेलकर्मियों में एक बार फिर से कोरोना संक्रमण का खतरा बढ़ने लगा है. रेल प्रबंधन की ओर से कर्मियों को ना तो सैनेटाइजर दिए जा रहे हैं और न ही मास्क या हैंड ग्लब्स. खासकर वैसे कर्मियों को अधिक परेशानी का सामना करना पड़ रहा है जो फ्रंट लाइन के कर्मचारी हैं. जिनका सीधा संपर्क यात्रियों से है, उन्हें सुरक्षा के नाम पर कुछ भी नहीं मिल रहा है. जिसका परिणाम यह सामने आ रहा है कि एक बार फिर से रेलकर्मियों में कोरोना संक्रमण तेजी से बढ़ने लगा है.

पिछले सप्ताह पटना जंक्शन के आरक्षण काउंटर पर तैनात एक रेलकर्मी कोरोना पॉजिटिव पाया गया. उसके संपर्क में आने वाले गुलजारबाग के आरक्षण काउंटर का कर्माचारी भी जांच में पॉजिटिव निकला और अधिकांश कर्मचारी कोरोना संक्रमण का शिकार होने लगे. पटना जंक्शन पर ही तैनात टिकट संग्राहकों में भी कोरोना संक्रमण तेजी से फैलने लगा है. जंक्शन पर तैनात फ्रंटलाइन के कर्मचारियों में सबसे अधिक परेशानी आरक्षण कर्मियों व टिकट निरीक्षकों को पेश आ रही है.

पटना: कड़ाके की ठंड के आसार, आश्रय विहिन लोगों के लिए हाईटैक रैन बसेरा तैयार

उल्लेखनीय है पहले जहां यात्रियों को प्लेटफार्म पर जाने के पहले पूरा स्क्रीनिंग की जाती थी, वहीं अब कोई देखने वाला नहीं है. पहले सामानों को रेलवे की ओर से सेनेटाइज करने की व्यवस्था थी, अब इसे निजी हाथों में दे दिया गया है. यात्री अपने पॉकेट से इसके लिए कोई भी शुल्क देने को तैयार नहीं हैं. किसी भी स्टेशन पर न तो मास्क की चेकिंग हो रही है और न ही ट्रेनों में कोई भी यात्री हैंड ग्लब्स लगाकर यात्रा कर रहा है. जो जागरूक यात्री हैं सिर्फ वही कोरोना प्रोटाकॉल फॉलो करते नजर आ रहे हैं. इस संबंध में दानापुर मंडल के रेलवे जन संपर्क अधिकारी पृथ्वीराज का कहना है कि यात्रियों की सुरक्षा को लगभग सभी स्टेशन पर आटोमेटिक सैनेटाइजर मशीन लगाए गए हैं. लगेज पैकेजिंग मशीन लगाए गए हैं. प्रवेश करते समय ही थर्मल स्क्रीनिंग कराई जाती है. प्रतिदिन मास्क की चेकिंग की जा रही है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें