पटना: छठ को लेकर जिला प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग तैयार, कोरोना जांच को लगेगा कैंप

Smart News Team, Last updated: Thu, 12th Nov 2020, 8:35 PM IST
  • कोरोना के चलते सिविल सर्जन कार्यालय की ओर से टीमों का गठन कर छठ पर सुरक्षा के मद्देनजर तैयारियां शुरू कर दी गई हैं. किन घाटों पर छठ मनाया जाएगा. इसकी सूची अभी प्रशासन की ओर से फाइनल नहीं की गई है. स्वास्थ्य विभाग और प्रशासन फिलहाल अपने स्तर पर तैयारियों में जुटा है.
छठ को लेकर विभाग ने टीमों का गठन करना शुरू कर दिया है

पटना. छठ पर्व को लेकर जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग ने कमर कस ली है. कोरोना के कारण इस वर्ष यह पर्व घाटों पर मनाया जाएगा. स्वास्थ्य विभाग पूरी तरह तैयार है और यदि घाटों पर पर्व मनाने की अनुमति मिलती है तो विभाग की ओर से वहां कोरोना जांच के चिकित्सा कैंप लगाया जाएगा. अभी इस पर सरकार के निर्णय का इंतजार है. सिविल सर्जन कार्यालय में इसे लेकर टीमों के गठन का कार्य शुरू कर दिया गया है.

सिविल सर्जन डॉ. विभा कुमारी सिंह ने जानकारी देते हुए बताया कि जिले में लगभग 91 गंगा घाटों और तालाबों की सूची है. हालांकि, इनमें से 60 से अधिक छठ महापर्व के अनुकूल नहीं है. प्रशासन की ओर से छठ के लिए किन घाटों पर अनुमति दी जाती है, उसकी सूची मिलने के बाद वहां कोरोना जांच के लिए टीम नियुक्त कर दी जाएगी. 

7 वीं बार शपथ लेने जा रहे नीतीश कुमार का नंबर 7 से ये है सॉलिड कनेक्शन

उन्होंने कहा कि 18 नवंबर को नहाय-खाय के साथ इस चार दिवसीय महापर्व का आगाज होगा. उसके बाद 19 नवंबर को खरना, 20 को पहला और 21 नवंबर को दूसरा अ‌र्घ्य दिया जाएगा. अभी 17 घाटों के निरीक्षण के लिए मजिस्ट्रेट के नेतृत्व में पांच से छह सदस्यीय टीम काम कर रही है. टीम का कार्य खतरनाक घाटों की पहचान करना और आवश्यक सुविधाएं मुहैया करवाने के इंतजामात करना है.  कई घाटों को प्रशासन तैयार करने के लिए निरीक्षण कर चुका है. स्वास्थ्य विभाग की ओर से कोरोना संक्रमण के खतरे को देखते हुए घरों में ही छठ पर्व का अ‌र्घ्य देने की अपील की जा रही है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें