Diwali Puja Muhurat: पटना मुजफ्फरपुर गया भागलपुर झारखंड रांची बोकारो धनबाद दिवाली लक्ष्मी पूजा शुभ मुहूर्त

Pallawi Kumari, Last updated: Thu, 4th Nov 2021, 2:41 PM IST
  • दिवाली का त्योहार गुरुवार 4 नवंबर को मनाया जाएगा, इस दिन लक्ष्मी पूजा का खास महत्व होता है. लक्ष्मी पूजा करने से घर की सारी समस्याएं दूर हो जाती है. कल दिवाली 2021 के दिन हर घर माता लक्ष्मी और गणेश की पूजा की जाएगी. आइये जानते हैं आपके शहर में क्या है लक्ष्मी पूजा का शुभ मुहूर्त.
दिवाली लक्ष्मी पूजा के लिए बिहार-झारखंड में शुभ मुहूर्त.

Diwali 2021: दिवाली या दीपावली हिंदू धर्म के कई त्योहारों में खास माना जाता है. कार्तिक मास के अमावस्या को हर साल दिवाली मनाई जाती है. इस बार दीपावली 4 नवंबर को हैं. इस दिन मां लक्ष्मी, भगवान गणेश, देवी सरस्वती ,कुबेर देव और महाकाली की पूजा होती है. दिवाली पूजा प्रदोष काल में करना शुभ माना जाता है. मां लक्ष्मी की पूजा करने वाले व्यक्ति के सारे दुख दूर हो जाते और उसके घर में खुशहाली बनी रहती है. आइये जानते हैं कि दिवाली 2021 पर कैसे मां लक्ष्मी को प्रसन्न कैसे करें.

दिवाली के दिन शाम में माता लक्ष्मी की पूजा का विधान है. मान्यता है कि दिवाली के दिन माता लक्ष्मी धरती पर आती है और हर घर में विचरण करती है. इसलिए इस दिन हर कोई घर को साफ सुधरा और पवित्र रखता है. मां के आगमन की स्वागत के लिए घर के द्वार पर रंगोली बनाई जाती है और दीप जलाए जाते हैं. मां लक्ष्मी को जिस घर में श्रद्धा भाव नजर आती है वह वहीं वास करती है.

Diwali Puja Muhurat: लखनऊ, कानपुर, प्रयागराज, गोरखपुर, मेरठ आगरा वाराणसी दिवाली लक्ष्मी पूजा शुभ मुहूर्त

दिवाली के दिन बिहार-झारखंड में लक्ष्मी पूजन का शुभ मुहूर्त-

पटना- शाम 05 बजकर 44 मिनट से 07 बजकर 41 मिनट तक  

गया- शाम 05 बजकर 46 मिनट से 07 बजकर 42 मिनट तक    

भागलपुर -05 बजकर 37 मिनट से 07 बजकर 34 मिनट तक    

मुजफ्फरपुर-05 बजकर 42 मिनट से 07 बजकर 39 मिनट तक

बोकारो -05 बजकर  40 मिनट से 07 बजकर 37 मिनट तक

धनबाद- शाम 5 बजकर 43 मिनट से 7 बजकर 49 मिनट तक

लक्ष्मी पूजा के लिए प्रदोश काल और वृषभ काल-

अवधि :1 घंटे 57 मिनट

प्रदोष काल : 17:06:45 से 19:41:22 तक

वृषभ काल : 17:44:13 से 19:41:33 तक

Diwali 2021: मां लक्ष्मी को सबसे ज्यादा प्रसन्न है कमल का फूल, दिवाली पर गणेश-लक्ष्मी पूजन में जरूर करें शामिल

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें