ओमिक्रॉन खतरे के बीच फ्रांस के वैज्ञानिकों को कोरोना का एक नया 'IHU'variant मिला

Smart News Team, Last updated: Tue, 4th Jan 2022, 2:46 PM IST
  • दुनिया भर में फिलहाल कोरोना के तेजी से फैलने वाले वैरिएंट ओमिक्रॉन से दहशत का माहौल है. इसी बीच फ्रांस के वैज्ञानिकों को कोरोना का एक नया प्रकार मिला है- 'आईएचयू', जो 46 बार अपना रूप बदल चुका है, जो ओमिक्रॉन से भी ज्यादा तेजी से फैलता है. वैज्ञानिकों की खोज में सामने आए B.1.640.2 यानी IHU वैरिएंट के बारे में दावा किया जा रहा है कि यह टीका लगवा चुके और एक बार संक्रमित हुए लोगों को भी शिकार बना सकता है.
ओमिक्रॉन खतरे के बीच फ्रांस के वैज्ञानिकों को कोरोना का एक नया 'IHU'variant मिला

ओमिक्रॉन के भयावह खतरे के बीच फ्रांस के वैज्ञानिकों को कोरोना का एक नया प्रकार मिला है- ‘IHU’आईएचयू', जो 46 बार अपना रूप बदल चुका है. बहुत ज्यादा म्यूटेशन होने की वजह से वैज्ञानिक इसे ज्यादा संक्रामक मान रहे हैं, जो कि वैक्सीन के खिलाफ भी ज्यादा प्रतिरोधी साबित हो सकता है. हालांकि, विश्व स्वास्थ्य संगठन ने फिलहाल इसे वेरिएंट अंडर इंवेस्टिगेशन की श्रेणी में नहीं रखा है, लेकिन इसका लिंक भी एक अफ्रीकी देश कैमरून से ही जुड़ रहा है. 

शोधकर्ताओं का कहना है कि इस वैरिएंट के 46 म्यूटेशन हो सकते हैं, जो ओमिक्रॉन के मुकाबले कहीं ज्यादा हैं. इस नए वैरिएंट के कम से कम 12 केस मार्सिलिस में पाए गए हैं. सभी संक्रमित लोग अफ्रीकी देश कैमरून की यात्रा से लौटे थे.

Corona Virus: पटना में कोरोना के 160 नए मामले, बिहार में संक्रमितों का आंकड़ा 1385 पहुंचा

 विश्व स्वास्थ्य संगठन की जांच में कहा गया है कि फ्रांस के अलावा किसी और देश में यह वैरिएंट अब तक नहीं मिला है. हालांकि इस बीच महामारी विज्ञानी एरिक फेगल डिंग ने ट्विटर पर कहा कि कोरोना के नए वैरिएंट्स सामने जरूर आ रहे हैं, लेकिन यह नहीं कहा जा सकता है कि ये पुराने वैरिएंट्स के मुकाबले ज्यादा खतरनाक हैं. वैरिएंट्स को लेकर जो चिंता जताई जा रही है, उसमें सबसे खतरनाक वो हैं, जिनके म्यूटेंट ज्यादा हैं.

उन्होंने कहा कि ओमिक्रॉन वैरिएंट में मल्टीप्लाई होने की क्षमता है और इसके चलते यह ज्यादा खतरनाक माना जा रहा है. ओमिक्रॉन वैरिएंट का पहली बार दक्षिण अफ्रीका में 24 नवंबर को पता लगा था, तब से अब तक ओमिक्रॉन वैरिएंट 100 से ज्यादा देशों में फैल चुका है. भारत की बात करें तो अब तक यह 23 केंद्र शासित प्रदेशों और राज्यों में फैल चुका है. 

 

'देश भर में ओमिक्रॉन वैरिएंट के अब तक 1892 मामले सामने आ चुके हैं. हालांकि ओमिक्रॉन को लेकर राहत की बात यह कही जा रही है कि यह डेल्टा जैसे अन्य तमाम वैरिएंट्स के मुकाबले कमजोर है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें