Govardhan Puja 2021: गोवर्धन पूजा में पढ़े ये आरती और मंत्र, श्री कृष्णा करेंगे हर इच्छा पूरी

Pallawi Kumari, Last updated: Fri, 5th Nov 2021, 12:50 PM IST
  • आज 5 नवंबर के दिन गोवर्धन पूजा की जाती है. इसे अन्नकूट पर्व भी कहा जाता है. गोवर्धन पूजा परिवार की सुख व समृद्धि का कामना के लिए किया जाता है. पूजा में विशेष मंत्र और आरती करने का भी विधान है इससे आपको भगवान श्री का आशीर्वाद मिलेगा और सारी मनोकामनाएं पूरी होंगी.
गोवर्धन पूजा आऱती और मंत्र.

कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि को हर साल दिवाली के अगले दिन गोवर्धन पूजा की जाती है. आज 5 नवंबर को भी धन, वैभव, सुख औक समृद्धि के लिए सभी गोवर्धन पूजा करते हैं. वैसे तो देशभर में गोवर्धन पूजा की जाती है लेकिन खास कर पश्चिमि उत्तर प्रदेश में लोग इस त्योहार को धूम धाम से मनाते हैं. इस दिन 56 तरह के पकवान बनाकर भगवान को भोग लगाया जाता है. शुभ मुहूर्त पर गोवर्धन पूजा के साथ अगर मंत्र और आरती की जाए और आपकी सारी इच्छाएं पूरी होती है और पूजा सफल होती है.

गोवर्धन पूजा मुहूर्त -

गोवर्धन पूजा प्रातःकाल मुहूर्त – सुबह 06:36 बजे से 08:47 बजे तक

गोवर्धन पूजा सायंकाल मुहूर्त – शाम 03:22 PM से 05:33 बजे तक

इंद्र की पूजा की जगह ब्रजवासियों ने शुरू की थी गोवर्धन पूजा, जानिए क्या है इतिहास

गोवर्धन पूजा मंत्र- गोवर्धन धराधार गोकुल त्राणकारक। विष्णुबाहु कृतोच्छ्राय गवां कोटिप्रभो भव।।

श्री कृष्ण पूजा मंत्र-

हे कृष्ण द्वारकावासिन् क्वासि यादवनन्दन। आपद्भिः परिभूतां मां त्रायस्वाशु जनार्दन।।

ॐ नमो भगवते तस्मै कृष्णाया कुण्ठमेधसे। सर्वव्याधि विनाशाय प्रभो माममृतं कृधि।।

'ॐ नमो भगवते श्री गोविन्दाय' कृं कृष्णाय नमः

गोवर्धन पूजा आरती-

श्री गोवर्धन महाराज, ओ महाराज, तेरे माथे मुकुट विराज रहेओ।

 तोपे पान चढ़े तोपे फूल चढ़े, तोपे चढ़े दूध की धार। तेरे माथे मुकुट विराज रहेओ।

 तेरी सात कोस की परिकम्मा, और चकलेश्वर विश्राम तेरे माथे मुकुट विराज रहेओ। 

तेरे गले में कण्ठा साज रहेओ, ठोड़ी पे हीरा लाल। तेरे माथे मुकुट विराज रहेओ। 

तेरे कानन कुण्डल चमक रहेओ,  तेरी झाँकी बनी विशाल। तेरे माथे मुकुट विराज रहेओ।

 गिरिराज धरण प्रभु तेरी शरण। करो भक्त का बेड़ा पार तेरे माथे मुकुट विराज रहेओ।

Govardhan Puja 2021: दिवाली के बाद गोवर्धन पूजा की तैयारी शुरू, ये है पूजा विधि और मुहूर्त

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें