Holi 2022: होली से 15 दिन पहले ही शुरू हो जाता है रंगोत्सव, मनाए जाते हैं ये पर्व

Pallawi Kumari, Last updated: Fri, 4th Mar 2022, 5:30 PM IST
  • होली का त्योहार हर साल फाल्गुन पूर्णिमा के दिन मनाई जाती है. इस साल होली शुक्रवार 18 मार्च 2022 को पड़ रही है. लेकिन होली से 15 दिन पहले ही होली से जुड़े फुलेहा दूज, लट्ठमार होली और रंगभरी एकादशी जैसे कई पर्व त्योहार शुरू हो जाते हैं. 
रंगोत्सव का पर्व होली (फोटो-लाइव हिन्दुस्तान)

रंगों का त्योहार होली विश्वभर में प्रसिद्ध है. होली पर लोग एक दूसरे को रंग लगाते हैं और खुशी मनाते हैं. इसलिए इसे रंग और उल्लास का त्योहार कहा जाता है. हिंदू कैलेंडर के अनुसार होली का त्योहार हर साल फाल्गुन माह के पूर्णिमा तिथि के दिन मनाई जाती है. होली से एक दिन पहले होलिका दहन होती है. इसे जगह इसे छोटी होली के नाम से भी जाना जाता है. इस साल छोटी होली 17 मार्च और होली 18 मार्च को मनाई जाएगी.

फाल्गुन महीने में महाशिवरात्रि और होली का त्योहार खास माना जाता है. वहीं फाल्गुन माह का शुक्ल पक्ष शुरू होते ही रंगोत्सव से जुड़े कई पर्व त्योहार मनाने शुरू हो जाते हैं. खासकर श्री कृष्ण की नगरी मथुरा और वृंदावन में तो होली की रौनक 15 दिन पहले से ही देखने को मिलती है. यहां की होली देशभर में प्रसिद्ध है. आइये जानते हैं होली से कई दिन पहले रंगोत्सव से जुड़े पर्व-त्योहारों के बारे में.

Viral Video: फेरे से पहले दूल्हे को आया जोरदार डांस, दुल्हन के साथ-साथ पंडित को भी नचाया

फुलेरा दूज – फुलेरा दूज शुक्रवार 4 मार्च को मनाई गई. इस दिन से ही होली की शुरुआत मानी जाती है. पौराणिक कथा के अनुसार इस दिन भगवान श्री कृष्ण ने राधा और गोपियों संग फूलों वाली होली खेली थी.

फाग आमंत्रण महोत्सव – नंदगांव में गुरुवार 10 मार्च को फाग उत्सव के रूप में मनाया जाता है. इसी दिन बरसाना में लड्डू होली खेलने परंपरा है और 10 मार्च से ही होलाष्टक शुरू हो जाती है. होलाष्टक में कोई भी शुभ कार्य करने पर पूरी तरह से मनाही होती है.

लट्ठमार होली– शुक्रवार 11 मार्च को लट्ठमारी होली मनाई जाएगी.बरसाना में लट्ठमार होली देशभर में मशहूर है.

लट्‌ठमार होली – बरसाना के अगले दिन शनिवार 12 मार्च को नंदगांव में भी लट्ठमार होली का त्योहार मनाया जाता है.

रंगभरी एकादशी – रविवार 13 मार्च को रंगभरी एकादशी पड़ रही है.फाल्गुन माह की शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को रंगभरी एकादशी के नाम से जाना जाता है. कहा जाता है कि इसी दिन भगवान शिव माता पार्वती को गौना के बाद कैलाश लेकर आए थे. इसी कारण भक्त इस दिन गुलाल वाली होली खेलते हैं.

होलिका दहन - होली से ठीक एक दिन पहले गुरुवार 17 मार्च को होलिका दहन का कार्यक्रम होता है. इसे छोटी होली भी कहते हैं.

होली उत्सव – शुक्रवार 18 मार्च को देशभर में धूमधाम के साथ होली का त्योहार मनाया जाएगा.

Phulera Dooj 2022: फुलेरा दूज पर आज अबूझ मुहूर्त, कर सकते हैं ये भी शुभ मांगलिक कार्य

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें