पटना विश्वविद्यालय में 15 साल बाद फिर शुरू होगी इंटर की पढ़ाई

Smart News Team, Last updated: Mon, 25th Jan 2021, 2:54 PM IST
  • राज्य सरकार ने 2006 में इंटर की पढ़ाई को समाप्त करने का फैसला लिया था तो पटना विवि ने तुरंत इसे समाप्त कर दिया था. सिंडिकेट की बैठक में डीडीई के अंतर्गत इंटर की पढ़ाई शुरू करने पर विचार किया जा रहा है.
पटना विश्वविद्यालय

पटना. पटना यूनिवर्सिटी में दूरस्थ शिक्षा निदेशालय (डीडीई) से इंटर की पढ़ाई शुरू करने जा रही है. इंटर की पढ़ाई राज्य सरकार के ओपन स्कूलिंग सिस्टम से की जाएगी. गौर हो कि पटना विश्वविद्यालय की ओर से करीब 15 साल बाद इंटर की पढ़ाई शुरू की जा रही है. पटना विश्वविद्यालय शिक्षक संघ के पूर्व अध्यक्ष प्रो. रणधीर कुमार सिंह ने विश्वविद्यालय के निर्णय का स्वागत किया है.

प्रो. रणधीर कुमार सिंह ने कहा कि इंटर की पढ़ाई फुल फलेज्ड शुरू की जानी चाहिए. 2006 में राज्य सरकार ने यूनिवर्सिटी से इंटर की पढ़ाई समाप्त करने का फैसला किया था. जिस पर विवि ने तुरंत इंटर की पढ़ाई समाप्त कर दी. पटना विश्वविद्यालय के सिंडिकेट की बैठक में डीडीई के अंतर्गत इंटर की पढ़ाई शुरू करने पर विचार किया जा रहा है. इसके लिए राज्य सरकार के ओपन स्कूलिंग एडमिनिस्ट्रेशन के तरफ से प्राप्त प्रस्ताव पर विचार करने के लिए पटना विवि के स्टूडेंटस वेलफेयर डीन प्रो एनके झा की अध्यक्षता में कमेटी भी गठित की गई है.

पटना: कोर्ट में आवेदन के लिए 7 नए ईमेल बने, 25 जनवरी से नए पते पर ई-फाइलिंग शुरू

इंटर कोर्स शुरू करने के लिए गठित कमेटी में पटना के लॉ कॉलेज के प्राचार्य प्रो. मोहम्मद शरीफ, वाणिज्य महाविद्यालय के इग्नू प्रोग्राम के को-आर्डिनेटर डॉ. अहमद हुसैन, प्रो. खगेंद्र कुमार, दूर शिक्षा निदेशालय के निदेशक प्रो. जावेद हयात को सदस्य बनाया गया है. प्रो. रणधीर के मुताबिक इंटर की पढ़ाई फुल फ्लैज्ड शुरू करने से शिक्षकों के 115 पद जो 2006 में समाप्त किए गए थे विश्वविद्यालय को वापस मिल जाएंगे. इसके साथ ही इंटर में पढ़ने वाले छात्रों को स्नातक में नामांकन के लिए आरक्षण मिलना शुरू हो जाएगा. फुल फ्लैज्ड इंटर की पढ़ाई शुरू होने से स्टूडेंट्स और विश्वविद्यालय दोनों का फायदा होगा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें