क्या आप जानते हैं कृष्ण के जन्म की सच्चाई, एक बाल से हुआ था जन्म, विष्णु पुराण में है दिव्य रहस्य का जिक्र

Pallawi Kumari, Last updated: Mon, 30th Aug 2021, 8:00 AM IST
  • भाद्रपद मास के कृष्ण पक्ष की तिथि को जन्मे श्रीकृष्ण का जन्मोत्सव आज यानी सोमवार 30 अगस्त को मनाया जाएगा. कृष्ण के अवतार और जन्म को लेकर कई रहस्य है. लेकिन क्या आप जानते हैं कि भगवान कृष्ण का जन्म एक बाल से हुआ था. तो चलिए जानते हैं आखिर से किसका बाल था.
श्री कृष्ण के जन्म का रहस्य. फोटो साभार-लाइव हिन्दुस्तान

आज 30 अगस्त को देशभर में जन्माष्टमी का त्योहार बड़े ही धूम-धाम से मनाया जाएगा. कृष्ण के जन्मोत्व में हर साल खूब रौनक और धूम-धाम देखने को मिलती है. शाम से ही मंदिर और घरों में भजन कीर्तन शुरू हो जाते हैं और रात्रि 12 बजे कृष्ण का जन्मोत्सव मनाया जाता है. बाल गोपाल को झूलाझुला कर माखन मिश्री से उन्हें भोग लगाया जाता है. लेकिन क्या आपको पता है कि भगवान कृष्णा के धरती में जन्म लेने के पीछे कई रहस्य छिपे हैं. 

कृष्ण के जन्म को लेकर कई तरह के रहस्य और मान्यताएं प्रचलित हैं. कृष्ण को भगवान विष्णु का स्वरूप कहा जाता है. उन्हें दिव्य पुरुष के नाम से भी जाना जाता है. क्योंकि देवताओं की प्रार्थना और पृथ्वी पर पाप और अत्याचार का भार कम करने के लिए मानव रूप में भगवान कृष्ण का जन्म हुआ. कहा जाता है कि भगवान कृष्ण का जन्म एक बाल से हुआ था.  

 श्री कृष्ण जन्माष्टमी, पूजा करने से पहले कान्हा की ये स्तुति करना ना भूलें

विष्णु पुराण के पुराण के पंचम अंश के प्रथम अध्याय में बताया गया है कि भगवान कृष्ण का जन्म एक बाल से हुआ था. ये किसका बाल था और कृष्ण इससे कैसे जन्में थे, यह एक दिव्य रहस्य है. कथा के अनुसार द्वापर युग में जब कंस का अत्याचार बढ़ गया और वह राज समाज, प्रजा पर कठोर अन्याय करने लगे औऱ धरती एक बार फिर पाप से बोझ तले दबने लगी.

वैसे भगवान श्रीकृष्ण के जन्म को लेकर कथाएं बहुत से रूपों में प्रचलित हैं. कहा जाता है धरती पर बढ़ रहे अत्याचार के कारण सभी देवी-देवताओं ने भगवान विष्णु से रक्षा की गुहार लगाई. भगवान विष्णु ने ब्रह्मा जी के सामने अपने श्याम और श्वते दो बालों को उखाड़कर कहा क‌ि पृथ्वी पर पाप का भार कम करने के उद्देश्य से मेरे श्याम बाल से भाद्र कृष्‍ण अष्टमी त‌िथ‌ि को श्याम श्री कृष्‍ण और सफेद बाल से बलराम जी का जन्म होगा.

भगवान विष्णु ने देवकी के गर्भ में दो बाल रोपे थे, इनमें से एक का रंग काला और दूसरे का रंग सफेद था.  दोनों ही बाल चमत्कारिक तरीके से रोहिणी के गर्भ में स्थानांतरित हो गए. जिसके बाद काले रंग के बाल से कृष्ण और सफेद बाल से बलराम का जन्म हुआ.

Janmashtami 2021: जन्माष्टमी का त्यौहार आज, कैसे रखें व्रत ,यहां जानें पूजा और शुभ मुहूर्त से लेकर पूरे विधि-नियम

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें