Chandra Grahan 2021: आज लगेगा साल का अंतिम चंद्र ग्रहण, जानें समय

Anurag Gupta1, Last updated: Fri, 19th Nov 2021, 9:06 AM IST
  • साल का अंतिम चंद्र ग्रहण आज. चंद्र ग्रहण के समय पूजा-पाठ समेत सभी प्रकार के शुभ कार्य करना वर्जित होता है. 19 नवंबर को सुबह 11 बजकर 34 मिनट पर लगेगा जो शाम को 5 बजकर 33 मिनट तक रहेगा.
चंद्र ग्रहण (फाइल फोटो)

पंचांग के अनुसार इस दिन कार्तिक मास की शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा की तिथि है. 19 नवंबर को साल का अंतिम चंद्र ग्रहण लगेगा. ज्योतिष का कहना है कि चंद्र ग्रहण के दौरान कोई भी पूजा-पाठ और किसी भी तरह का शुभ कार्य नहीं किया जाएगा. कार्तिक पूर्णिमा पर भगवान विष्णु, लक्ष्मी जी की पूजा जीवन में सुख-समृद्धि प्रदान करने वाली मानी गई है. चंद्र ग्रहण भारत के कुछ राज्यों में दिखेगा. जानें किस राज्य में कब दिखेगा चंद्र ग्रहण. 

Kartik Purnima 2021: दान का होता है विशेष महत्व, जानें शुभ मुहुर्त, मंत्र और पूजा विधि

क्या है तिथि:

शु्क्रवार को कार्तिक मास की शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा की तिथि है, जो दोपहर 2 बजकर 29 मिनट तक रहेगी. इसके बाद मार्गशीर्ष मास की प्रतिपदा तिथि प्रारंभ होगी.

साल का अंतिम चंद्र ग्रहण:

भारत के समय के हिसाब से 19 नवंबर को सुबह 11 बजकर 34 मिनट पर लगेगा जो शाम को 5 बजकर 33 मिनट तक रहेगा. इस दौरान पूजा-पाठ और अन्य शुभ कार्य नहीं किया जा सकेगा.

सबसे लंबा चंद्र ग्रहण:

580 साल में लगने वाला सबसे लंबा आशिक चंद्र ग्रहण  होगा. इससे पहले 1440 में ऐसा ग्रहण पड़ा था. इसके बाद इसके बाद इतना लंबा चंद्र ग्रहण 8 फरवरी 2669 में लगेगा.

पूर्वोत्तर में सीमित समय के लिए दिखेगा चंद्र ग्रहण:

पूर्वोतर राज्यों जैसे असम, अरूणाचल प्रदेश में सीमित पलों के लिए नजर आएगा. यह चंद्र ग्रहण अरुणाचल प्रदेश और असम के उत्तर-पूर्वी हिस्सों में चंद्रोदय के ठीक बाद बहुत कम समय के लिए दिखाई देगा. पूर्वी एशिया, उत्तरी यूरोप, अमेरिका और आस्ट्रेलिया में दिखाई देगा. यह चंद्रग्रहण वृषभ राशि और कृतिका नक्षत्र में लगेगा. इससे वृषभ राशि सबसे अधिक प्रभावित होगा.

उपछाया चंद्र ग्रहण:

मान्यताओं के अनुसार पूर्ण चंद्र ग्रहण लगने पर ही सूतक काल मान्य होता है. चूंकि यह उपछाया चंद्र ग्रहण है इसलिए इस चंद्र ग्रहण में सूतक काल मान्य नहीं होगा. बता दें कि पूर्ण चंद्र ग्रहण के शुरू होने से 9 घंटे पहले से ही सूतक काल प्रारंभ हो जाता है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें