पटना: क्षेत्र में 15 जनवरी से कूड़ा उठाव की लाइव मॉनिटरिंग होंगी शुरू

Smart News Team, Last updated: 14/12/2020 02:13 PM IST
  • 15 जनवरी से राजधानी पटना में कूड़ा उठाव की लाइव मॉनिटरिंग शुरू की जाएगी। शहर के करीब ढाई लाख घरों में क्यूआर कोड लगाए जाएंगे।पटना नगर निगम मुख्यालय मौर्यालोक कॉम्प्लेक्स में मॉनिटरिंग सिस्टम को लगाया जा रहा है। कूड़ा वाहनों में जीपीएस सिस्टम भी लगाए जांएगे।
पटना नगर निगम लगाएगी घरों के बाहर क्यूआर कोड, कचरा उठाते ही होगा ग्रीन

पटना: शहर में 15 जनवरी से कूड़ा उठाव की लाइव मॉनिटरिंग शुरू की जाएगी। बता दें राजधानी के करीब ढाई लाख घरों में डोर टू डोर कूड़ा उठाव सुनिश्चित करने के लिए क्यूआर कोड लगाए जाएंगे। इसके लिए पटना नगर निगम मुख्यालय मौर्यालोक कॉम्प्लेक्स में मॉनिटरिंग सिस्टम को लगाया जा रहा है। हर रोज सफाई कर्मी को क्यूआर कोड स्कैन करना होगा जिससे सुनिश्चित होगा कि हर घर में सफाई कर्मी पहुंच रहे हैं।कूड़ा वाहनों में जीपीएस सिस्टम भी लगेंगे। ताकि वो ट्रैक किए जा सकें। कूड़ा वाहन सभी घरों तक पहुंच रहे हैं या नहीं इसे लाइव मॉनिटरिंग के तहत देखा जाएगा।वहीं अगर गड़बड़ी पाई गई तो एजेंसी के खिलाफ कार्रवाई होगी।

बता दें पटना नगर निगम स्वच्छता सर्वेक्षण के परिणाम को जारी करते हुए नगर आयुक्त हिमांशु शर्मा ने कहा कि कूड़ा उठाव वाली गाड़ियां हर रोज आएंगी या नहीं अभी लोगों को इस बात पर भरोसा ही नहीं हो पा रहा है। इस कारण सड़कों पर ही लोग कूड़ा डंप कर देते हैं। इससे स्वच्छता की स्थिति पर असर पड़ता है।

पटना: 16 दिसंबर से 2 फरवरी के बीच चार जोड़ी स्पेशल ट्रेनें रहेंगी रद्द

पटना नगर आयुक्त ने कहा कि पटना स्मार्ट सिटी लिमिटेड के साथ मिलकर इस प्रोजेक्ट को पूरा कराया जा रहा है। इससे ऐप के जरिए कूड़ा वाहनों के मूवमेंट को ट्रैक किया जाएगा। आम लोग भी ऐप के जरिए देख पाएंगे कि उनके घर तक आने वाला कूड़ा वाहन कहां पर अभी मौजूद है। इसके अलावा निगम मुख्यालय में बने कंट्रोल रूप में घरों पर लगे क्यूआर कोड के स्कैन होते ही जानकारी रिकॉर्ड हो जाएगी। अगर किसी भी मुहल्ले में सफाई वाहन नहीं पहुंचता है तो फिर संबंधित वाहन चालक को लोग एप के जरिए कॉल कर सकेंगे। इनका नाम व नंबर एप में डाला जाएगा। इसके अलावा एप पर शिकायत की सुनवाई के लिए भी व्यवस्था को बेहतर बनाया जाएगा। 

पटना: 14 से तैयार होगी पंचायत चुनाव के लिए मतदाता सूची, जानें पूरे कार्यक्रम

 

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें