Tuesday Puja: ऐसे काम करने वाले भक्तों की पूजा नहीं स्वीकारते बजरंगबली, फौरन छोड़ दे ये आदतें

Pallawi Kumari, Last updated: Tue, 5th Oct 2021, 6:49 AM IST
  • मंगलवार के दिन हनुमानजी की पूजा कर भक्त उनका आशीर्वाद पाने के लिए पूरे विधि-विधान के साथ उनकी अराधना करते है. लेकिन पूजा करते समय आपको कुछ बातों का विशेष ध्यान रखने की जरूरत है. वरना पूजा के दौरान की गई ऐसी गलती है बजरंगबली नाराज हो जाते हैं.
मंगलवार बजरंगबली की पूजा का दिन.

सप्ताह में हर दिन किसी न किसी देवी देवता को समर्पित है. इसी तरह मंगलवार को हनुमानजी की पूजा करने का महत्व है. कहा जाता है कि हनुमान जी बड़े दयालु होते हैं और अपने भक्तों की हर मनोकामनाएं पूरी करते हैं. लेकिन कई बार ऐसा होता है कि जाने अनजाने में कुछ ऐसी गलतियां हो जाती है , जिससे भगवान नाराज हो जाते हैं. इसलिए हनुमान जी की पूजा करने के लिए कुछ खास बातों का खास तौर पर ध्यान रखना चाहिए. हनुमान जी वैसे तो अपने भक्तों पर खूब प्रसन्न रहते हैं, लेकिन इन चार तरह के लोगों की पूजा वह कभी नहीं स्वीकारते.

खंडित मूर्ति में पूजा करना- जो व्यक्ति भगवान की खंडित या टूटी हुई मूर्ति में हनुमानजी की पूजा करता है, उसकी पूजा सफल नहीं होती. शास्त्रों में भी किसी भी देवी-देवता की खंडित मूर्ति में पूजा करना वर्जित बताया गया है.

Somvar Puja: शिवलिंग पर भूलकर भी न चढ़ाएं ये चीजें, भगवान शंकर हो जाते हैं नाराज

काले रंग के कपड़ पहनकर पूजा करना- काले रंग का वस्त्र धारण कर हनुमानजी की पूजा कभी नहीं करनी चाहिए. काले रंग का कपड़ा पहचकर जो व्यक्ति भगवान की पूजा करता है उसकी पूजा सफल नहीं होती. इसलिए मंगलवार को बजरंगबली की पूजा के दौरान लाल या पीले रंग का कपड़ा पहनना शुभ माना जाता है.

अपमान करने वाले व्यक्ति- जो भक्त बड़े ही श्रद्धा भाव से भगवान की पूजा करता है , लेकिन अपने दैनिक जीवन में वह सभी का अपमान करता है और अपशब्द का प्रयोग करता है. ऐसे लोगों की पूजा के बाद भी भगवान का आशीर्वाद नहीं मिलता.

मांस-मदिरा का सेवन करना- जो लोग मांस व मदिरा का सेवन कर मंदिर जाते हैं या हनुमानजी की पूजा करते हैं. ऐसे लोगों पर हनुमान जी कभी भी अपनी कृपा नहीं बरसाते. पूजा करने के पहले नहा धो कर शुद्ध होना चाहिए और अन्न जल ग्रहण करने से पहले भगवान की पूजा करनी चाहिए.

Pitru Sharadh 2021: सर्व पितृ अमावस्या पर 11 साल बाद बन रहा है खास योग, जानिए क्या है इसका महत्व

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें