एनएच-30 सात जगहों पर गंगा पाथवे से जुड़ेगा, निर्माण कार्य में तेजी

Smart News Team, Last updated: Thu, 4th Feb 2021, 12:29 PM IST
  • बीएसआरडीसी के अधिकारियों के मुताबिक गंगा का जलस्तर अधिकतम सीमा पर पहुंचने की स्थिति में भी गंगा पाथवे से जुड़ने के बाद एनएच 30 चालू रहेगा. दीघा से एएन सिन्हा इंस्टीट्यूट तक पाथवे को अगस्त तक चालू करने का लक्ष्य तय किया गया है. 
एनएच 30 के निर्माण कार्य में तेजी लाई गई है

पटना. गंगा पाथवे एनएच 30 के साथ सात जगहों से जुड़ेगा. दीघा रोटरी से दीदारगंज के बीच एनएच 30 के निर्माण कार्य भी तेजी से चल रहा है. गंगा पाथवे से एलसीटी घाट और एनएन सिन्हा इंस्टीट्यूट को जोड़ने का काम तेजी से चल रहा है. पहले चरण में दीघा से एएन सिन्हा इंस्टीट्यूट तक पाथवे को अगस्त तक चालू करने का लक्ष्य तय किया गया है. इसके बाद दिसंबर में पीएमसीएच को एक्सक्लूसिव कनेक्टिविटी देने की प्लानिंग है. इसके निर्माण से लोगों को पीएमसीएच तक आने जाने की सुविधा हो जाएगी.

एनएच 30 का निर्माण मार्च 2023 तक पूरी तरह से चालू किए जाने की योजना है. दूसरे चरण में इसे दिसंबर 2022 तक गायघाट से जोड़ा जाएगा और तीसरे चरण में मार्च 2023 तक दीदारगंज से जोड़कर एनएच 30 का निर्माण पूरा हो जाएगा और इसे चालू किया जाएगा. उल्लेखनीय है कि फोरलेन रोड का निर्माण सितंबर 2013 में शुरू हुआ था और उस समय सितंबर 2015 तक इसे पूरा करने का लक्ष्य रखा गया था. गंगा पाथवे पर कोई यू टर्न नहीं होगा और दीघा से करीब 20 किलोमीटर की दूरी 20 मिनट में तय की जा सकेगी.

रूपेश सिंह मर्डर केस का खुलासा, तेजस्वी यादव बोले- पुलिस को मिल गया बकरा

एनएच 30 के निर्माण के बाद पटना के अन्य भागों में जाने के लिए सर्विस रोड से फ्लाईओवर के नीचे से जाना होगा. बीएसआरडीसी के अधिकारियों का कहना है कि गंगा का जलस्तर अधिकतम सीमा पर पहुंचने की स्थिति में भी गंगा पाथवे चालू रहेगा और इसे शहर से जोड़ने में कोई परेशानी नहीं होगी. इसका निर्माण अधिकतम जलस्तर से अधिक ऊंचाई के अनुरूप किया जा रहा है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें