पटना : अब जीपीओ में भी बनेंगे जाति प्रमाण पत्र, पासपोर्ट सहित अन्य कागजात

Smart News Team, Last updated: 14/12/2020 05:19 PM IST
बिहार डाक सर्किल प्रदेश के विभिन्न जिलों में 267 जन सेवा केंद्र खोलेगा। वहीं पटना डीवीजन में करीब 29 जन सेवा केंद्र खुल रहा है। अब पटना जीपीओ में लोगों को 100 से अधिक सुविधाएं  मिलेगी।15 दिसंबर को जीपीओ में जन सेवा केंद्र का उद्घाटन होगा।
अब जीपीओ में भी बनेंगे जाति प्रमाण पत्र, पासपोर्ट सहित अन्य कागजात

पटना: क्षेत्रवासियों को एक ही छत के नीचे सारी सुविधा मिले इसके मद्देनजर बिहार डाक सर्किल 15 दिसंबर को जीपीओ में जन सेवा केंद्र का उद्घाटन किया जाएगा। जन सेवा केंद्र में लोगों को जाति प्रमाण, पासपोर्ट सेवा, पैनकार्ड, जन्म प्रमाण सहित 100 से अधिक सुविधा मिलेगी।जीपीओ चीफ पोस्ट मास्टर रास बिहारी राम ने कहा कि जीपीओ में शिकायत केंद्र में ही जन सेवा केंद्र खुलेगा। शुरूआत में एक काउंटर की सुविधा है। जरूरत पड़ने पर काउंटर बढ़ाया जाएगा। 

दरअसल पटना जीपीओ ने अपना दायरा बढ़ाते हुए लोगों को सुविधा के लिए बिहार डाक सर्किल प्रदेश के विभिन्न जिलों में 267 जन सेवा केंद्र खुलेगा। वहीं पटना डीवीजन में करीब 29 जन सेवा केंद्र खुल रहा है। 100 से अधिक सुविधाएं पटना जीपीओ में लोगों को मिलेगी। बता दें अन्य जन सेवा केंद्र में करीब 300 सुविधाएं लोगों को मिलेगी। वहीं शुरूआत में कुछ डाक घर 75-100 सुविधाएं दे रही है।  अब लोगों को जन सेवा केंद्र खुलने के बाद इधर-उधर जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी।

पटना: क्षेत्र में 15 जनवरी से कूड़ा उठाव की लाइव मॉनिटरिंग होंगी शुरू

बता दें  पैनकार्ड व आधार कार्ड, जाति प्रमाण-पत्र,जन्म प्रमाण पत्र, पासपोर्ट सेवा और मृत्यु प्रमाण पत्र, हेल्थ कार्ड व आधार कार्ड, प्रधान मंत्री फसल बीमा योजना, खाद्य लाइसेंस और जनधन पेंशन योजना, मतदाता कार्ड से संबंधित सभी प्रकार के आवेदन, लेबर सर्टिफिकेट और रजिस्ट्रेशन,फास्ट टैग से जुड़ीं सभी सेवाएं,लोन आवेदन जमा करना, ईएमआई कलेक्शन और एनपीएस, नेवी रिक्रूटमेंट, बेरोजगारों का निबंधन,सारथी, ई-चालान, ई-स्टांप, ई-वाहन सेवाएं, रिटर्न और जीएसटी रिर्टन, टीडीएस रिटर्न और डिजिटल सिग्नेचर सर्टिफिकेट,जमीन की रसीद व भूमि अधिग्रहण सर्टिफिकेट इन सब कागजातों के अलावा लोन के लिए भी आवेदन किया जा सकता है।

पटना: 16 दिसंबर से 2 फरवरी के बीच चार जोड़ी स्पेशल ट्रेनें रहेंगी रद्द

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें