पटना की आबोहवा सांस लेने लायक नहीं, एक्यूआई 300 के पार, बारिश हो तो मिलेगी राहत

Smart News Team, Last updated: 03/12/2020 04:34 PM IST
  • पटना में प्रदूषण का स्तर पिछले कुछ दिनों से लगातार खराब हो रहा है. धुएं और धूल की वजह से एक्यूआई अत्यंत खराब श्रेणी में रिकार्ड हो रहा है. जिससे राहत होने के आसार सिर्फ बारिश होने से ही मिलने का अंदेशा लगाया जा रहा है.
प्रदूषण के कारण हवा की गुणवत्ता खराब हो रही है

पटना.  पिछले कई दिनों से पटना में प्रदूषण लगातार बढ़ता जा रहा है और हवा की गुणवत्ता का स्तर 300 के पार पहुंच चुका है. जिससे अब यहां की हवा सांस लेने लायक नहीं रही है. एक्यूआई 300 के पार होने का मतलब है कि हवा में अतिसूक्ष्म कणों, वाहनों के धुएं और धूल की वजह से स्थिति बद से बदतर होती जा रही है. प्रदूषण के मामले में पटना मंगलवार और बुधवार लगातार दो दिन रेड जोन में रहा है. बुधवार को भी पटना में एयर क्वालिटी इंडेक्स 318 दर्ज किया गया है. 300 के पार एक्यूआई सबसे खराब श्रेणी मानी जाती है. 

मौसम विशेषज्ञों के मुताबिक पहाड़ों पर होने वाली बर्फबारी की वजह से देश के मैदानी हिस्सों में तापमान में गिरावट दर्ज होगी और मौसम सर्द होगा. दूसरी ओर प्रदूषण में कमी आने की उम्मीद है. पटना, गया, मुजफ्फरपुर में प्रदूषण फैलाने वाले सभी औद्योगिक इकाइयों पर प्रतिबंध लगाया जाएगा. इसके साथ ही सीमेंट, सीसा, पत्थर जैसे प्रदूषण फैलाने वाले 22 औद्योगिक इकाइयों के निर्माण पर भी प्रतिबंध लगाने की भी तैयारी की जा रही है. यह जानकारी बिहार राज्य प्रदूषण नियंत्रण पर्षद के जनसंपर्क अधिकारी वीरेंद्र कुमार ने दी.

परिवहन विभाग सिपाही भर्ती में दूसरे के स्थान पर परीक्षा देते 15 और फर्जी

उल्लेखनीय है कि प्रदूषण नापने वाले छह स्टेशनों में चार जगहों पर प्रदूषण का स्तर रेड जोन में रहा है, जबकि दो जगहों पर आरेंज जोन पाया गया है. आरेंज जोन में भी हवा काफी प्रदूषित पाई गई. मौसम विभाग का मानना है कि प्रदूषण से मुक्ति तभी मिलेगी अगर बारिश हो. इसके अलावा  वाहनों के संचालन और कंट्रोल पर भी एक्यूआई निर्भर करेगा. तेज हवा के साथ बारिश होने के बाद हवा की गुणवत्ता का सूचकांक बेहतर होने की उम्मीद है. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें