पटना

पटना: चातुर्मास शुरू, बैंड-बाजा बारात बंद, शादी-ब्याह का मुहूर्त चार माह बाद

Smart News Team, Last updated: 01/07/2020 11:47 AM IST
  • बुधवार 1 जुलाई यानी आज से चातुर्मास शुरू हो जाएगा और राजधानी में अगले 4 महीनों तक शादी-विवाह जैसे शुभ मुहूर्तों पर रोक लग जाएगी।
चातुर्मास शुरू, बैंड-बाजा बारात बंद, शादी-ब्याह का मुहूर्त चार माह बाद

पटना. बुधवार 1 जुलाई से चातुर्मास शुरू हो जाएगा और राजधानी में हो रहीं हिंदू शादियों पर रोक लग जाएगी। इसके बाद सीधा 4 महीने बाद नवंबर से विवाह समारोह शुरू होंगे। आज यानी बुधवार को हरिशयन एकादशी है। माना जाता है कि इस दिन से श्री हरि चार महीनों के लिए शयन को चले जाते हैं और इस दौरान सनातन धर्मावलंबियों के शादी-ब्याह संपन्न नहीं होते। मंगलवार 30 जून शादी-ब्याह का आखिरी मुहूर्त था अब सीधा 25 नवंबर के बाद सभी कार्यक्रम शुरू होंगे।

ज्योतिषाचार्य के अनुसार, एक जुलाई यानी आषाढ़ मास के शुक्ल पक्ष को देवशयनी एकादशी है। मिथुन राशि के सूर्य में आने पर यह एकादशी आती है। कहा जाता है कि इस दिन से भगवान श्री हरि विष्णु क्षीरसागर में शयन करते हैं। जिसके बाद करीब चार महीने बाद तुला राशि में सूर्य के जाने पर उन्हें उठाया जाता है। उस दिन को देवोत्थानी एकादशी कहा जाता है। इस बीच के अंतराल को चातुर्मास कहा गया है। मान्यता है कि चातुर्मास में ही भगवान श्रीराम ने ऋषिमुख पर्वत पर निवास कर रावण के वध के लिए साधना, एकांतवास और शक्ति संचय किया था।

ज्योतिषाचार्य ने बताया कि अब इस साल शादी-ब्याह के सिर्फ 12 शुभ मुहूर्त ही बाकी हैं। जिनमें नवंबर में दो और दिसंबर में 10 शुभ विवाह मुहूर्त हैं। इस साल चातुर्मास समाप्त होने के बाद 25 नवंबर से 14 दिसंबर तक शुभ विवाह मुहूर्त हैं।

वहीं ज्योतिषाचार्य डॉ. राजनाथ झा ने मिथिला पंचांगों के हवाले से कहा कि इस साल अब सिर्फ छह शुभ मुहूर्त बाकी हैं। मिथिला पंचांगों में चातुर्मास के समाप्त होने के बाद नवंबर माह में एक भी शुभ विवाह मुहूर्त नहीं है। जबकि दिसंबर माह में 14 तक केवल छह शुभ विवाह के मुहूर्त हैं।

अन्य खबरें