पटना: दुर्गा पूजा शुरू, बाबा नागेश्वर ने 21 कलश सीने पर रख शुरू किया अनुष्ठान

Smart News Team, Last updated: 18/10/2020 10:06 PM IST
  • पटना का नौ लखा मंदिर, जो 100 साल पुराना है. मंदिर में बाबा नागेश्वर ने 21 कलश सीने पर रखकर अनुष्ठना शुरू किया है. जो नौ दिनों तक चलेगा. 
सरकार द्वारा जारी गाइडलाइन के अनुसार इस वर्ष दुर्गा पूजा मेंनहीं बिकेंगे मुकुट व साजो सज्जा के सामान

पटना. दुर्गा पूजा का अनुष्ठान शुरू हो चुका है. यह नौ दिनों तक चलेगा और 25 तारीख को समाप्त होगा. शहर के मंदिर सज चुके हैं. पटना में सचिवालय के पास स्थित नौ लखा मंदिर है. यह मंदिर सौ साल पुराना है. यहां पर बाबा नागेश्वर पिछले 25 साल से सीने पर कलश रखकर मां का अनुष्ठान करते हैं. इस मंदिर का नाम नौलखा इसलिए पड़ा क्योंकि इसके निर्माण में नौ लाख रुपए लगे थे. इसके संस्थापक विजय कुमार ने बताया कि यह काफी प्रसिद्ध मंदिर हैं और लोग यहां देश विदेश से भी दर्शन करने आते हैं. बाबा नागेश्वर के दर्शन को पूजा के दौरान यहां काफी भीड़ लगती है.  

मंदिर के पुजारी बाबा ने सुबह 11 बजकर दस मिनट पर अपने सीने पर कलश की स्थापना कर ली है. अनुष्ठान के पांच दिन पहले अन्न त्याग देते हैं. बाबा नागेश्वर 216 घंटे अपने सीने पर कलश रखेंगे. बाबा मां के सामने अनुष्ठान में बैठ चुके हैं. नौ दिनें के बाद जब मां का पट खुलेगा तो बाबा दिनचर्या में आएंगे. 

रेलवे का छठ पूजा पर बिहार-यूपी को तोहफा, 392 स्पेशल ट्रेनों का होगा संचालन

मंदिर के मुख्य पुजारी अजीत कुमार झा ने बताया कि वह 16 वर्ष से मंदिर में ही हैं. बाबा नागेश्वर  ऐसे ही यहां अनुष्ठान करते आ रहे हैं. उन्होंने बताया कि बाबा पांच दिन पहले अन्न जल का त्याग कर देते हैं और वह यह अनुष्ठान पिछले 25 साल से कर रहे हैं. बाबा की उम्र 85 वर्ष के करीब है. बाबा नागेश्वर से भी बात की गई तो उन्होंने कहा कि इस बार उनके अनुष्ठान का संकल्प है कि कोरोना महामारी हमारे देश से दूर भाग जाए और लोगों को परेशानी से निजात मिल सके.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें