पटना: इसरो प्रतियोगिता में फुलवारी की छात्रा ने बढ़ाया पटना का मान

Smart News Team, Last updated: 01/10/2020 08:37 PM IST
  • पटना के फुलवारी शरीफ की छात्रा गौरी सिंह को इंडियन स्पेस रिसर्च ऑर्गेनाइजेशन की साइबर स्पेस प्रतियोगिता में दूसरा स्थान मिला है. पूर्व राष्ट्रपति डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम से प्रभावित है.
गौरी सिंह

पटनाः इसरो की ओर से अखिल भारतीय स्तर पर आयोजित प्रतियोगिता में फुलवारी शरीफ की बेटी ने दूसरा स्थान हासिल कर अपने परिवार सहित प्रदेश का नाम भी रोशन कर दिया है. वहीं दिल्ली पब्लिक स्कूल में पांचवीं की छात्रा गौरी सिंह को साइबर स्पेस प्रतियोगिता में यह कामयाबी हासिल हुई है.

इंडियन स्पेस रिसर्च ऑर्गेनाइजेशन (इसरो) की ओर से हर वर्ष यह प्रतियोगिता आयोजित की जाती है.

इस वर्ष कक्षा एक से 12वीं तक के छात्र-छात्राओं के लिए अलग-अलग आठ प्रतियोगिताएं आयोजित की गई थीं. चौथी से पांचवीं कक्षा के लिए मॉडल मेकिंग प्रतियोगिता में गौरी ने हिस्सा लिया था. जुलाई में आयोजित इस प्रतियोगिता का विषय ’इंडियन लांच व्हीकल’ था. छह घंटे में इसका मॉडल बनाकर इसके बारे में विस्तार से जानकारी देनी थी.

पटना कोरोना अपडेट: राजधानी में मिले सर्वाधिक 225 नए केस, बिहार में 1435

गौरी ने पीएसएलवी सी-35 का मॉडल बनाकर इसके बारे में विस्तार से जानकारी दी. इस प्रतियोगिता में देशभर के 2 लाख 4 हजार 631 छात्र शामिल हुए थे. महान वैज्ञानिक डॉ. विक्रम साराभाई के जन्म दिवस 25 सितंबर को राष्ट्रपति इस प्रतियोगिता में टॉप छात्रों को प्रमाणपत्र देकर सम्मानित किया जाता है लेकिन इस साल कोरोना की वजह से सम्मान समारोह दिल्ली में आयोजित नहीं हो सका.

इसरो की तरफ से प्रमाणपत्र स्कूल को भेजा गया है. कलाम से प्रभावित, स्पेस साइंटिस्ट बनने का सपना व गौरी ने बताया कि इस सफलता के पीछे स्कूल के शिक्षक और माता-पिता का आशीर्वाद है. वह पूर्व राष्ट्रपति डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम से प्रभावित है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें